Amarnath Yatra के लिए पंजीकरण शुरू, सुरक्षा के इस बार खास इंतजाम

हिन्दू धर्म के लोगों के बीच पवित्र अमरनाथ यात्रा का बड़ा महत्व है। हर साल बड़ी संख्या में पर्यटक अमरनाथ यात्रा के लिए पहुंचते हैं। इस साल अमरनाथ यात्रा की शुरुआत आषाढ़ मास की शिव चतुर्दशी पर 01 जुलाई से होगी, जबकि यात्रा रक्षा बंधन यानि की 15 अगस्त तक जारी रहेगी। इस साल यात्रा की अवधि करीब 46 दिन रहेगी, जबकि पिछले साल यह 60 दिन की थी। बता दें कि इस वर्ष की अमरनाथ यात्रा के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हो गई है। बुधवार को जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने अमरनाथ तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया की शुरुआत की। अमरनाथ यात्रा के लिए श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड वार्षिक तीर्थयात्रा का प्रबंधन करता है।

श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने बताया है कि यह सुविधा 500 यात्रियों को प्रतिदिन दोनों मार्गों पहलगाम मार्ग और बालटाल मार्ग के लिए मिलेगी। इनमें से प्रत्येक मार्ग पर 250-250 यात्री पंजीकरण करा सकेंगे। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के दौरान श्रद्धालुओं को अपना स्वास्थ्य प्रमाण पत्र अपलोड करना होगा। इस साल 13 वर्ष से कम और 75 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति का पंजीयन नहीं हो सकेगा। इनके अलावा छह सप्ताह से अधिक समय की गर्भवती महिला का भी पंजीयन नहीं हो सकेगा।

इसके अलावा यात्रियों की सुरक्षा और सुविधा के लिए भी विशेष इंतजाम किए गए हैं। नई पहल के तहत इस बार यात्रा के परमिट फॉर्म के क्यूआर कोडिंग/ बार कोडिंग को भी लागू किया गया। क्यूआर कोड यात्री के डेटाबेस से जुड़ा हुआ है। क्यूआर कोड को चंदनवाड़ी और मध्यवर्ती शिविरों में स्कैन किया जाएगा। इससे श्रद्धालुओं की गिनती और वास्तविक समय के आधार पर उनकी ट्रैकिंग करने में मदद मिलेगी। पहले की तरह इस साल भी यात्रियों की दुर्घटना बीमा राशि तीन लाख रुपये रहेगी। गौरतलब है कि अमरनाथ हिन्दुओं का एक प्रमुख तीर्थस्थल है। इसकी समुद्रतल से ऊंचाई लगभग 13,600 फुट है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *