उत्तराखंड की पारंपरिक स्वादिष्ट व्यंजन है कंदली की साग

कंदली की साग उत्तराखंड के पसंदीदा व्यंजनों में से एक है। इसे कंदली के पत्तों की मदद से बनाया जाता है। कंदली के पत्तों को स्थानीय लोग बिच्छू घास के रूप में पहचानते हैं। कंदली की साग खाने में बहुत स्वादिष्ट होती है। यह हरी पत्तेदार सब्जी पकाने में बहुत आसान है। आइये हम आपको बताते हैं कि उत्तराखंड के लोकप्रिय व्यंजन को कैसे बनाया जाता है।

सामग्री

कंदली की साग – एक किलो

जखिया या जीरा – 20 ग्राम

सरसों का तेल – 30 मिली

लाल मिर्च – तड़के के लिए

नमक – स्वादानुसार

कैसे बनाई जाती है स्वादिष्ट कंदली की साग

इसे बनाने के लिए सबसे पहले एक कढ़ाई में कंदली के नर्म और छोटे पत्तों को पानी में अच्छी तरह से उबाला जाता है। पत्तों को अच्छी तरह से उबालने के बाद अतिरिक्त पानी और पत्तों को एक दूसरे से अलग किया जाता है। इसके बाद कढ़ाई में तेल गर्म करके उसमें जीरा डालते हैं। फिर कंदली के उबले हुए पत्तों को कढ़ाई में डालकर भूना जाता है। पत्तों को अच्छी तरह से भूनने के बाद उसमें स्वादानुसार नमक और लाल मिर्च मिलाई जाती है। अब इसे गर्मा-गर्म सर्व किया जाता है। तो कुछ इस तरह से तैयार होती है उत्तराखंड की प्रसिद्द कंदली की साग।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *