प्राकृतिक सौंदर्य में सबसे आगे है हिमाचल में बसा भारत का आखिरी गांव चितकुल

कहने को तो यह भारत का आखिरी गांव कहा जाता है, लेकिन प्राकृतिक खूबसूरती के मामले में यह सबसे आगे है। जी हां हम बात कर रहे है हिमाचल प्रदेश के जिला किन्नौर के गांव छितकुल (चितकुल) की। भारत-तिब्बत की सीमा पर बसे इस गांव को भारत का आखिरी गांव भी कहा जाता है। लगभग 3450 मीटर की ऊंचाई पर बस्पा नदी के पास बसा यह गांव शिमला से 250 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है। अगर आप रोमांच के साथ प्राकृतिक सौंदर्य का मजा लेना चाहते तो यकीन मानिए यहां आकार आप निराश नही होंगे। बहती नदियों की धारा पर सूरज का प्रतिबिंब चमकते मोतियों जैसा लगता है। यहां स्थानीय देवी माथी के तीन मंदिर बने हुए हैं। इस खूबसूरत स्थल को किन्नौर जिले का क्राउन भी कहा जाता है।

छितकुल अपने अंदर प्राकृतिक सुंदरता का खजाना समाहित किए हुए है। चारो और बर्फ से ढके ऊंचे-ऊंचे पहाड़, हरे-भरे घास के मैदान, उन मैदानों के बीच से निकलती छोटी-छोटी नदिया और उन नदियों का आगे चलकर बस्पा नदी में जाकर मिलना, यकीन मानिए यह नजारा इतना खूबसूरत होता है, जिसे आप कभी भूल नहीं सकते। यहां प्रकृति की अद्भुत छटा देखते ही बनती थी। बर्फ से ढकी पहाड़ियों को देखकर ऐसा लगता है जैसे चारों ओर रुई बिछी हुई है।

 

चांदनी रात में तो यहां का नजारा और भी खूबसूरत हो जाता है। आसमान से निकली चांदनी में नहाए हुए बर्फ से ढके पहाड़ और हरे-भरे मैदान, ऐसा लगता है जैसे घास का एक कारपेट बिछाया हुआ है। यहां पर्यटकों के आकर्षण का मुख्य केंद्र है बस्पा नदी के तट पर बसे हुए इष्ट देवी माता माथी के तीन मंदिर। माना जाता है कि माथी के सबसे प्रमुख मंदिर को गढ़वाल के एक निवासी ने करीब 500 वर्ष पूर्व बनवाया था।

छितकुल जाते समय 10 किलोमीटर पहले एक और खूबसूरत गांव आता है रक्छम। करीब 3059 मीटर की ऊंचाई पर बसा यह गांव पहाड़ की ऊंचाइयों पर स्थित है। अगर आप ट्रैकिंग के शौकीन तो आप रक्छम से छितकुल के बीच 10 किलोमीटर की दूरी पर ट्रैकिंग कर सकते है। यहां आने के लिए अप्रैल से अक्टूबर के बीच का समय सबसे अच्छा रहता है। यहां जाने से पहले एक बात का विशेष ध्यान रखे कि यहां पूरे साल भर सर्दी का अहसास होता है, इसलिए गर्म कपड़े हमेशा साथ रखे।

कैसे जाएं छितकुल

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है कि छितकुल भारत-तिब्बत की सीमा पर बसा है, ऐसे में यहां जाने के लिए आपको सड़क मार्ग का सहारा लेना होगा। यहां से निकटतम एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन 250 किलोमीटर दूर शिमला में है। शिमला से छितकुल जाने के लिए आप बस के द्वारा नेशनल हाईवे 22 से होते हुए रिकांगपिओ तक का सफर लगभग 10 घंटे में कर सकते है। यहां से छितकुल जाने के लिए आप बस या फिर किराये की गाड़ी भी ले सकते हैं। अगर आप खुद के वाहन से वहां जा रहे है तो बता दे कि यहां जाने के रास्ते खतरनाक है, जिन्हें ड्राइविंग के लिए एक चुनौती माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!