कश्मीर की खूबसूरती को बढ़ाता है यह गार्डन, जाना जाता है “प्लेसेस ऑफ़ द प्रिंसेस” के नाम से

achabal kashmir in hindi- धरती का स्वर्ग कहे जाने वाला कश्मीर अपने आप में खूबसूरती की चाद्दर लपेटे हुए है। कश्मीर में घूमने के लिए एक से बढ़कर एक जगह हैं, जहां जाकर आप सूकुन के पल बिता सकते हो। ऐतिहासिक पृष्ठभूमि होने के कारण इस जगह का अपना विशेष महत्व है। अचबल कुकरनाग के उत्तर पश्चिम से 15 किलोमीटर, श्रीनगर से अनंतनाग होते हुए 58 किलोमीटर तथा अनंतनाग से 8 किलोमीटर की दूरी पर है।

अचबल जम्मू और कश्मीर राज्य के अनंतनाग में स्थित एक महत्त्वपूर्ण पर्यटन स्थल है, जो मुगल गार्डन के लिए प्रसिद्ध है। यहां के गार्डन के उपरी भाग को मलिका नूर जहां बेगम द्धारा 1616 में निर्माण करवाया गया, जिसे ‘बाग-ए-बेगम आबद’ के नाम से जाना जाता है। इस दौरान मुगलों ने यहां झरने और फव्वारे बनाए। इसके अलावा गार्डन के बीचोंबीच एक मस्जिद है, जिसका निमार्ण मुगल शासक दारा शिकोह द्धारा करवाया गया। अचबल में एक मुगल उद्यान है, जिसे अचबल गार्डन के नाम से जाना जाता है।

achabal kashmir in hindi

अचबल गार्डन

इस गार्डन को “प्लेसेस ऑफ़ द प्रिंसेस” के नाम से भी जाना जाता है। यह जगह कश्मीर घाटी के दक्षिण-पूर्वी छोर पर है। पहले यह जगह एक धार्मिक हिन्दू स्थल हुआ करती थी, जिसका नाम अक्शावाला था।

मुगल गार्डन
मुगल गार्डन कई छोटे-छोटे गार्डन से बना है, जिसका निमार्ण मुगल साम्राज्य में किया गया। इस गार्डन में बनी शैलियां फारसी बाग एवं तैमूरी बागों से प्रभावित हैं। आयताकार खाकों के बाग एक चारदीवारी से घिरे होते हैं। इसके खास आकर्षण फव्वारे, झील, सरोवर, इत्यादि हैं। मुगल साम्राज्य के संस्थापक बाबर या तैमूर ने इसे चारबाग कहा था। इस शब्द को भारत में नया अर्थ मिला, क्योंकि बाबर ने कहा था कि भारत में इन बागों हेतु तेज बहते स्रोत नहीं हैं, जो कि अधिकतर पर्वतों से उतरी नदियों में मिलते हैं।

जब नदी दूर होती जाती है, धारा धीमी पड़ती जाती है। आगरा का रामबाग इसका प्रथम उदाहरण माना जाता है। भारत एवं पाकिस्तान (तत्कालीन भारत) में मुगल उद्यानों के अनेकों उदाहरण हैं। इनमें मध्य एशिया बागों से काफी भिन्नता है, क्योंकि यह गार्डन ज्यामिति की उच्च माप का नमूना हैं।

यहां कैसे पहुंचे

सड़क मार्ग द्धारा आप श्रीनगर से अचबल पहुंच सकते हैं, इसकी दूरी तकरीबन 67 किलोमीटर है। इसके अलावा जम्मू तवी रेलवे स्टेशन अचबल के सबसे पास स्थित स्टेशन है, जो 203 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। अचबल का निकटतम हवाई अड्डा श्रीनगर हवाई अड्डा लगभग 67 किलोमीटर पर है।

प्रकृति और जीवों से है प्यार तो एक बार जरूर करें दाचीगम सेंक्चुरी का दीदार

14 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है एशिया का सबसे ऊंचा पुल

रोमांच के शौकीनों के लिए बर्फीले पहाड़ों से घिरा काजा स्वर्ग से कम नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/himalayandiary/public_html/wp-includes/functions.php on line 4344