पर्यटकों के लिए खुला जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क का बिजरानी जोन, पहले दिन पहुंचे 358 पर्यटक

करीब साढ़े तीन महीने माह बाद एक बार फिर से जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क पर्यटकों से गुलजार होने लगा है। दरअसल सोमवार से यहां का बिजरानी जोन पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है। बिजरानी जोन खुलने से पर्यटकों और क्षेत्रीय पर्यटन कारोबारियों में खुशी का माहौल है। पहले ही दिन 62 जिप्सियों से 358 पर्यटकों ने बिजरानी जोन का आनंद लिया। इन पर्यटकों में करीब 10 पर्यटक विदेशी भी थे। इस दौरान पर्यटक खास तौर पर बाघ देखने के लिए उत्सुक नजर आए। जोन खुलने से जिप्सी चालक, मालिक, गाइड व होटल कारोबारी खासे खुश नजर आ रहे हैं।

बता दे कि बरसात के मौसम में जंगल के भीतर नदी-नाले उफान पर आ जाते हैं। ऐसे में पर्यटकों की सुरक्षा को देखते हुए पार्क प्रशासन ने 30 जून से बिजरानी पर्यटन जोन को पर्यटकों के लिए बंद कर दिया था। बरसात के दौरान बिजरानी पर्यटन जोन की सड़के भी क्षतिग्रस्त हो गई थी, जिनकी मरम्मत 15 अक्टूबर से पहले ही कर दी गई है। यहां पर्यटक बिजरानी जोन की नैसर्गिक सौंदर्य का आनंद लेने के साथ ही वाइल्ड लाइफ और विभिन्न तरह की चिड़ियों को देखने के लिए आते हैं।

बिजरानी जोन के भ्रमण के लिए पर्यटकों द्वारा ऑनलाइन बुकिंग भी की जाती है। इस जोन के भ्रमण के लिए पहले प्रति पाली 10 वाहनों के जाने की अनुमति थी, लेकिन इस साल हाइकोर्ट ने वाहनों के संबंध में विभिन्न दिशा निर्देश दिये हैं। नए निर्देशों के अनुसार अब प्रति पाली 32 वाहनों ले जाने की अनुमति दे दी है। फ़िलहाल पर्यटक यहां एक दिवसीय दौरे पर आ सकते हैं क्यों कि अभी कॉर्बेट में रात्रि विश्राम करने की सुविधा नहीं है। यहां रात्रि विश्राम के लिए पर्यटकों को अभी एक माह का इंतजार करना होगा। कॉर्बेट के वन विश्राम गृह में रात्रि विश्राम की सुविधा पर्यटकों को 15 नवंबर से मिल पाएगी।

कैसे पहुंचें जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क उत्तराखंड के प्रमुख शहर रामनगर में स्थित है। रामनगर सड़क मार्ग द्वारा उत्तराखंड के प्रमुख शहरों सहित मोरादाबाद, बरेली और दिल्ली से जुड़ा हुआ है। दिल्ली से रामनगर के सीधी ट्रेन चलती है। इसके अलावा पर्यटक रेल मार्ग द्वारा हल्दवानी या काठगोदाम पहुंच सकते हैं। यहां से रामनगर के टैक्सी और बस की सुविधा उपलब्ध हैं। रामनगर से नजदीकी हवाई अड्डा लगभग 85 किलोमीटर दूर पंतनगर में स्थित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/himalayandiary/public_html/wp-includes/functions.php on line 4344