अद्भुत सौंदर्य ही नहीं, अवंतिपुर के खंडहर मंदिरों में भी बसती है कश्मीर की खूबसूरती

कश्मीर को इसकी प्राकृतिक खूबसूरती के लिए धरती का स्वर्ग कहा जाता है। इसके अलावा लोक संस्कृति, धार्मिक स्थलों और व्यंजनों के लिए भी कश्मीर काफी प्रसिद्द है। हालांकि कश्मीर इन चीजों के अलावा प्राचीन स्मारकों तथा कई महलों व मंदिरों के लिए भी प्रसिद्ध है। इतिहास में दिलचस्पी रखने रखने वाले पर्यटकों को यह काफी आकर्षित करते हैं। अवंतिपुर, जम्मू कश्मीर का एक ऐसा ही खूबसूरत पर्यटन स्थल है। प्रदेश की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर से करीब 29 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद अवंतिपुर एक छोटा गांव है, जिसे पहले अवंतिपुरा के नाम से जाना जाता था। माना जाता है कि अवंतिपुर की स्थापना सन् 854 से लेकर 883 तक कश्मीर पर राज करने वाले महाराजा अवंतिवर्मन ने की थी। यह प्राचीन कश्मीर की सबसे प्रसिद्ध राजधानी मानी जाती है।

अवंतिश्वर और अवंतिस्वामी मंदिर

अवंतिपुर मुख्यतः दो प्राचीन मंदिरों अवंतिश्वर और अवंतिस्वामी के लिए जाना जाता है। अवंतिश्वर भगवान शिव को, जबकि अवंतिस्वामी भगवान विष्णु को समर्पित है। दोनों मंदिरों का निर्माण 9वीं शताब्दी के दौरान अवंतिवर्मन ने करवाया था। इन मंदिरों के निर्माण में अपनाई गई वास्तुशैली यूनानी वास्तु के समान है। वर्तमान समय में यह मंदिर जीर्ण अवस्था में हैं। कच्ची सामग्री, समय और प्राकृतिक आपदा के कारण मंदिर जमीन में दफ़न हो गए थे। बाद में 18वीं सदी में अंग्रेजों द्वारा खुदाई करके इन्हें बाहर निकाला गया। श्रीनगर में स्थित श्री प्रताप सिंह संग्रहालय में मंदिर की कुछ कलाकृतियां मौजूद हैं। इसके अलावा प्राचीन मंदिरों के अवशेष आज भी अवंतिपुर में देखने को मिलते हैं। इन मंदिरों को देखने के लिए पर्यटक यहां पहुंचते हैं।

Related image

होते हैं कला के उत्कृष्ट नमूने के दर्शन

यह खंडहर आठवीं सदी के होने के बाद भी आज भी उतने ही आकर्षक लगते हैं। अवंतिश्वर मंदिर के पास जाने पर पता चलता है कि खंडहर हो चुका यह मंदिर कभी विशाल बरामदे में था, जिसके चारों ओर बड़े-बड़े पत्थरों से दीवार बनाई गई थी। जिस चबूतरे पर इस मंदिर की आधारशिला रख कर इसका निर्माण किया गया है, वह करीब दस फुट ऊंचा है तथा 58 वर्ग फुट व्यास का है। यहां कला के उत्कृष्ट नमूने के दर्शन होते हैं और यह नमूने उस काल की कला के बारे में भी जानकारी देते हैं।

कैसे जाएं अवंतिपुर

अवंतिपुर जाने के लिए पर्यटक यात्रा के तीनों मार्गों का उपयोग कर सकते हैं। अवंतिपुर से नजदीकी हवाई अड्डा 29 किलोमीटर दूर श्रीनगर में स्थित है, जबकि अवंतिपुर से निकटतम रेलवे स्टेशन जम्मू तवी है। यह भारत के सभी प्रमुख स्टेशनों से जुड़ा हुआ है। अवंतिपुर के लिए सीधी बस सेवा उपलब्ध नहीं हैं। सड़क मार्ग से अवंतिपुर जाने के लिए पर्यटकों को सबसे पहले श्रीनगर आना होता है। श्रीनगर से अवंतिपुर जाने के लिए बसों की सुविधा उपलब्ध है।

पौड़ी गढ़वाल का बहुत ही खूबसूरत एवं आकर्षक स्थल है ताराकुंड

मंत्रमुग्ध कर देने वाली खूबसूरती के लिए पर्यटकों के बीच प्रसिद्द है कसौली

अपनी अद्भुत खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध है खुर्पाताल झील, बदलती है अपना रंग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/himalayandiary/public_html/wp-includes/functions.php on line 4344