रोहतांग पास में बर्फबारी के चलते पर्यटकों की संख्या में हुई बढ़ोतरी, तापमान शून्य से भी कम

rohtang pass weather- अक्टूबर महीने की शुरुआत ही हुई है लेकिन हिमाचल प्रदेश के पहाड़ों ने बर्फ की सफेद चादर ओढ़ ली है। चंबा जिले के भरमौर और पांगी की चोटियां बर्फ से ढक चुकी हैं। केलांग में तापमान माइनस से भी नीचे पहुंच गया है। कुल्लू और लाहौल स्पीति को जोड़ने वाले रोहतांग दर्रा में एक बार फिर हिमपात हुआ है। पिछले एक हफ्ते में यहां छह इंच बर्फ गिर चुकी है। वहीं, अक्टूबर में यहां तीसरी बार बर्फबारी हुई है। इसके चलते केलांग में न्यूनतम पारा शून्य तक पहुंच गया है।

rohtang pass weather

rohtang pass weather

जिला मुख्यालय केलांग की पहाड़ियों में ताजा बर्फबारी होने से तापमान में भारी गिरावट हो गई है, जिसके कारण लाहुल-स्पीति व कुल्लू जिला में लोगों ने गर्म कपड़े पहनने शुरू कर दिए हैं। मनाली में झमाझम बारिश हुई, जिसके बाद ऊंची चोटियां अब सफेद नजर आने लगी हैं। रोहतांग पास की तस्वीर रोमांच से भरने वाली है। बर्फ़बारी की वजह से मनाली-लेह मार्ग पर सफर करना अब खतरनाक हो गया है क्योंकि बर्फ सड़क तक फैल गई है। कांगड़ा के धौलाधार श्रृंखला के पहाड़ों भी बर्फबारी की खबर है।

बर्फबारी के चलते एक बार फिर सैलानियों से यह जगहें भरी हुई नजर आ रही हैं। बड़ी संख्या में सैलानी रोहतांग का रुख कर रहे हैं और यहां बर्फ में जमकर मस्ती कर रहे हैं। दूर-दूर से पर्यटक अपने परिवार और दोस्तों के साथ घूमने आ रहे हैं। दिवाली के अवकाश के चलते अनुमान लगाया जा रहा है कि पर्यटकों की संख्या बढ़ सकती है। आने वाले समय में यहां का तापमान में गिरावट देखने को मिलेगी और बर्फबारी के आसार भी बने हुए हैं।

मढ़ी में दो इंच बारिश 

रोहतांग दर्रे में आधा फीट, राहनीनाला और ग्रांफू में 4 इंच, मढ़ी में दो इंच, ब्यासनाला, चुंबक मोड़, राहलाफाल, फातरु और गुलाबा में बर्फबारी हुई। बर्फबारी के कारण रोहतांग दर्रे सहित शिंकुला और बारालाचा दर्रा बंद होने से लेह जाने वाले सैलानी और लोग दारचा में फंस गए हैं। एसडीएम मनाली के अनुसार रेस्क्यू टीम ने 150 वाहनों को निकाल लिया है। सेना के वाहन और बसें भी दर्रे में फंसी थीं। प्रशासन ने लोगों से आग्रह किया कि दर्रे में बर्फ को देखते हुए कुछ दिन दर्रा आर-पार न करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/himalayandiary/public_html/wp-includes/functions.php on line 4469