famous temple in uttarakhand Archives - THE HIMALAYAN DIARY

युधिष्ठिर ने की थी लाखामंडल मंदिर की स्थापना, यहां पुनः जीवित हो जाता है व्यक्ति

यह वही जगह है, जहां पर दुर्योधन ने पांडवों को मारने के लिए ‘लक्षग्रह’ का निर्माण करवाया था। कहा जाता है कि अपने अज्ञातवास के दौरान पांडव यहां आए थे। इस दौरान स्वयं युधिष्ठिर ने शिवलिंग को स्थापित किया था। इस शिवलिंग को महामंडेश्वर नाम से जाना जाता है।

Read more

बद्रीनाथ धाम के पास व्यास गुफा में गणेश जी ने लिखी थी महाभारत

यह वही गुफा है, जहां पर महर्षि वेद व्यास जी ने महाभारत को बोला था और भगवान गणेश ने उसे लिखा था। हिमालय की सघन वादियों के बीच स्थित इस गुफा में वेद व्यास जी जैसा-जैसा बोलते गए और भगवान गणेश उसे लिखते रहें। इस तरह पवित्र महाकाव्य महाभारत की रचना हुई।

Read more

चार धाम और पंच केदारों में प्रमुख है केदारनाथ मंदिर

भगवान शिव को समर्पित यह विशाल मंदिर भूरे रंग के कटवां पत्थरों के विशाल शिलाखंडों को जोड़कर बनाया गया है। मंदिर का निर्माण लगभग 6 फुट ऊंचे चबूतरे पर किया गया है। केदारनाथ मंदिर में स्थित ज्योतिर्लिंग की ऊंचाई 3584 मीटर है।

Read more

शक्तिपीठ सुरकंडा देवी से नजर आता है चारों धामों की पहाड़ियों का दुर्लभ दृश्य

घने जंगलों से घिरे हुए इस प्रसिद्द धार्मिक स्थल से हिमालय का खूबसूरत नजारा देखने को मिलता है। इसके अलावा यहां से बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमनोत्री अर्थात चारों धामों की पहाड़ियों का दुर्लभ नजारा देखने को मिलता है।

Read more

ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट पर होता है गंगा, यमुना और सरस्वती नदी का संगम

जरा नामक एक शिकारी के तीर से चोट लगने के बाद भगवान श्री कृष्ण यहां आए थे। इस स्थान को भगवान कृष्ण का अंतिम संस्कार स्थल भी माना जाता है। यहां आने वाले तीर्थ यात्री इस जगह पर अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए पिंड श्राद्ध नामक “कर्मकांड” भी करते हैं।

Read more

पांडुकेश्वर में है योग ध्यान बद्री मंदिर, यहीं हुआ था पांडवों का जन्म

माना जाता है कि भगवान विष्णु की कांस्य की प्रतिमा को इस स्थान पर महाभारत के नायक पांच पांडवों के पिता राजा पांडु ने स्थापित किया था। कई लोगों का मानना है कि यह वहीँ स्थान है जहां पर पांडव पैदा हुए थे और राजा पांडु ने इस स्थान पर मोक्ष प्राप्त किया था।

Read more

देहरादून में है प्रसिद्द टपकेश्वर महादेव मंदिर, यहां स्थित है स्वयंभू शिवलिंग

टपकेश्वर मंदिर देवताओं का निवास स्थान है। यहीं पर देवता भगवान शिव का ध्यान किया करते थे। यहां स्थित पवित्र गुफा में भगवान शिव ने देवताओं को देवेश्वर के रूप में दर्शन दिए थे। इसके बाद भगवान शिव ने ऋषियों को दर्शन दिए।

Read more

कण्व ऋषि की तपोस्थली है कण्वाश्रम, यहीं हुआ था शकुंतला पुत्र भरत का जन्म

प्राचीन समय में हिन्दू धर्म के पवित्र धार्मिक स्थल बद्रीनाथ धाम और केदारनाथ धाम यात्रा की शुरुआत कण्वाश्रम से शुरू हुआ करती थी। इसके अलावा मालिनी नदी के तट पर स्थित कण्वाश्रम में तीर्थ श्रद्धालुओं का महाकुम्भ भी हुआ करता था।

Read more

लोगों के विश्वास और आस्था का प्रतीक है चमत्कारिक संतला देवी मंदिर

मुगलों से लड़ते-लड़ते जब संतला देवी और उनके भाई को एहसास हुआ कि वे मुगलों से लड़ने में सक्षम नहीं हैं, तो उन्होंने इसी स्थान पर अपने दोनों हथियार फेंक दिये और प्रार्थना शुरू कर दी। उसी समय चारों ओर दिव्य प्रकाश फैला और वह दोनों पत्थर की मूर्तियों में बदल गये।

Read more

हरिद्वार में है दक्ष महादेव मंदिर, यहां मां सती ने किया था अपने जीवन का त्याग

दक्ष महादेव मंदिर में भगवान शिव जी की मूर्ति लैंगिक रूप में विराजित है। मंदिर में भगवान विष्णु के पांव के निशान भी मौजूद है। मंदिर परिसर में एक छोटा सा गड्डा भी है, जिसके बारे में कहा जाता है कि यहीं पर माता सती ने अपने जीवन का बलिदान दिया था।

Read more