देवभूमि उत्तराखंड में गोत्र पर्यटन को बढ़ावा देगा पर्यटन विभाग, मिलेगी पूर्वजों की जानकारी

उत्तराखंड को देव भूमि व ऋषि मुनियों की तपस्थली के रूप में जाना जाता है। हर साल बड़ी संख्या में श्रद्धालु बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री और हरिद्वार दर्शन करने के लिए आते हैं। इस दौरान यहां आने वाले श्रद्धालुओं की जानकारी पोथियों में संजो कर रखी जाती है। वर्तमान समय में यहां आने वाले बहुत कम श्रद्धालुओं को इस बात की जानकारी है।

Read more

हरिद्वार में है दक्ष महादेव मंदिर, यहां मां सती ने किया था अपने जीवन का त्याग

दक्ष महादेव मंदिर में भगवान शिव जी की मूर्ति लैंगिक रूप में विराजित है। मंदिर में भगवान विष्णु के पांव के निशान भी मौजूद है। मंदिर परिसर में एक छोटा सा गड्डा भी है, जिसके बारे में कहा जाता है कि यहीं पर माता सती ने अपने जीवन का बलिदान दिया था।

Read more

पर्यटकों के दीदार के लिए खुली राजाजी टाइगर रिजर्व की चीला रेंज, पहले दिन पहुंचें 36 पर्यटक

इसके अलावा वाइल्ड कैफ चीफ ने जानकारी देते हुए बताया कि यहां हाथी, लेपर्ड सहित अन्य जंगली जानवरों की संख्या में बढ़ोत्तरी हो रही हैं। हाथियों के संरक्षण और संवर्द्धन के लिए पार्क प्रसाशन निरंतर प्रयासरत है। राजाजी टाइगर रिजर्व का नाम महान स्वतंत्रता सेनानी चक्रवर्ती राजगोपालाचारी के नाम पर रखा गया है। 830 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ यह पार्क हाथियों की संख्या के लिए जाना जाता है। देहरादून से लगभग 23 किलोमीटर दूर इस क्षेत्र में 1983 से पहले राजाजी, मोतीचूर और चिला नाम से तीन अभयारण्य थे।

Read more

हरिद्वार में है भारत माता मंदिर, संतों और स्वतंत्रता सेनानियों को है समर्पित

इस मंदिर की खास बात यह है कि देश के अन्य मंदिरों से अलग यह मंदिर उन संत-महात्माओं, विदुषी स्त्रियों और सुर-वीरो को समर्पित है, जिन्होंने देश के सांस्कृतिक, आध्यात्मिक और सामाजिक जीवन में अमूल्य योगदान दिया है।

Read more

हरिद्वार के नील पर्वत पर स्थित है प्रसिद्द शक्तिपीठ चंडी देवी मंदिर

यह मंदिर हिन्दू धर्म की आस्था के प्रतिक 52 शक्तिपीठों में से एक है। इसे कश्मीर के तत्कालीन शासक द्वारा वर्ष 1929 में बनवाया गया था। मंदिर में स्थित मुख्य मूर्ति की स्थापना 8वीं सदी में हिन्दू धर्म के सबसे बड़े पुजारियों में से एक आदि शंकराचार्य ने की थी।

Read more

हरिद्वार के मनसा देवी मंदिर में पूरी होती हैं भक्तों के मन की हर कामना

मनसा देवी का मन्दिर अत्यन्त प्राचीन और सिद्धपीठों में से एक है। मंदिर में स्थित एक मूर्ति के पांच मुख और दस भुजाएं हैं, जबकि एक अन्य मूर्ति की अठारह भुजाएं और एक मुख हैं। इनके पति का नाम जगत्कारु और पुत्र का नाम आस्तिक जी है।

Read more

हरिद्वार-ऋषिकेश-अमृतसर-वैष्णोदवी की यात्रा के लिए IRCTC लेकर आया शानदार टूर पैकेज

यह यात्रा भारत दर्शन स्पेशल टूरिस्ट ट्रेन में स्लीपर क्लास से होगी। इस दौरान यात्रियों को ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर दिया जाएगा। इसके अलावा ठहरने के लिए धर्मशाला में व्यवस्था की जाएगी। यात्रियों को पीने के पानी के रूप में पैक्ड ड्रिंकिंग वाटर दिया जाएगा। लोकल एरिया में लोकेशन घुमाने के लिए गाड़ी की सुविधा होगी। ट्रेन में यात्रियों की सुरक्षा के लिए ट्रेन में सिक्योरिटी टीम होगी। इस पूरे पैकेज के लिए एक यात्री को मात्र 7560 रुपए चुकाना होगा।

Read more

हरिद्वार में है प्रमुख शक्तिपीठ माया देवी मंदिर, होती है सारी मनोकामना पूरी

इस मंदिर में धार्मिक अनुष्ठान के साथ ही तंत्र साधना भी की जाती है। माया देवी के मंदिर में माता की मूर्ति के चार भुजा और तीन मुंह हैं। मूर्ति के बायें हाथ पर देवी काली और दायें हाथ पर देवी कामाख्या की मूर्ति हैं। माया देवी मंदिर के साथ ही यहां भैरव बाबा का मंदिर भी मौजूद है।

Read more
error: Content is protected !!