Rohtang और आदि हिमानी Chamunda के लिए रोपवे का निर्माण जल्द

पलचन से रोहतांग तक का रोपवे 9 किलोमीटर लंबा होगा। इस पर करीब 450 करोड़ रुपये का खर्च आना है। वहीं, करीब 6 किलोमीटर हिमानी चामुंडा रोपवे पर 280 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है।

Read more

Triund में प्रकृति से छेड़छाड़ पर सख्त हुआ हाईकोर्ट, दिए कार्रवाई के आदेश

कोर्ट ने उपायुक्त से कहा की वह त्रियुंड में वन भूमि पर किए गए कब्जों का निरीक्षण कर स्टेटस रिपोर्ट हाईकोर्ट के सामने पेश करे। उपायुक्त अगले महीने की 24 तारीख को अपनी कार्रवाई की रिपोर्ट कोर्ट के सामने पेश करेंगे।

Read more

कांगड़ा जिले में आज से शुरू होगा बहुप्रतीक्षित त्रिगर्त उत्सव, किशन कपूर करेंगे समारोह का शुभारंभ

त्रिगर्त उत्सव में लोगों को कांगड़ा घाटी की कला, संस्कृति एवं इतिहास के विविध पहलुओं से रूबरू करवाया जाएगा। महीने भर तक चलने वाले इस समारोह का आयोजन भाषा एवं संस्कृति विभाग हिमाचल प्रदेश और कांगड़ा जिला प्रशासन के द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है। त्रिगर्त उत्सव के तहत जिलेभर में विभिन्न कार्यक्रमों की श्रृंखला आयोजित की जाएगी।

Read more

मानव परिंदों से फिर गुलजार हुई बीलिंग घाटी, पहले दिन पैराग्लाइडिंग करने पहुंचे 100 से अधिक पायलट

प्रतियोगिता के पहले दिन पुरुषों की श्रेणी में न्यूजीलैंड के मैट्ट सीनियर पहले, न्यूजीलैंड के ही लुइस टोपर दूसरे और भारत के देवू चौधरी तीसरे स्थान पर रहे। महिला श्रेणी में एलीना पहले, अन्ना दूसरे व विरोनिका तीसरे स्थान पर रहीं। यह तीनों ही महिलाएं रशिया की नागरिक हैं। अगर भारतीयों की बात की जाएं तो देवू चौधरी पहले, विजय सेनी दूसरे, यशपाल तीसरे व प्रकाश चंद ठाकुर चौथे स्थान पर रहे।

Read more

मेहमान परिंदों के आने से चहक उठा पौंग बांध, दुनिया भर से पहुंच रहे हैं प्रवासी पक्षी

यह पक्षी विहार उत्तरी मैदान के सबसे पश्चिमोत्तर इलाके में स्थित होने के कारण यह पक्षियों का सबसे पसंदीदा विहार है। यहां कई तरह के दुर्लभ प्रजाति के प्रवासी पक्षी भी आते हैं। दुनिया भर से 1 लाख से भी अधिक मात्र में पक्षी यहां पहुंचते हैं। इस बार उम्मीद है कि पर्यटकों की संख्या में वृद्धि होगी। इन्हें देखने के लिए बड़ी मात्र में पर्यटक यहां पहुंचते हैं। पर्यटकों के रहने के लिए यह विशेष इंतजाम किए गए हैं। वन्य जीव मंडल हमीरपुर के डीएफओ का कहना है कि इस बार पौंग एरिया पिछले साल की अपेक्षा अलग होगा। पर्यटकों को भी बेहतर सुविधाएं दी जाएंगी।

Read more

ज्वालामुखी मंदिर में पृथ्वी के गर्भ से निकल रही नौ ज्वालाओं की होती है पूजा

यह चमत्कारिक मंदिर अपने अंदर कई सारे रहस्यों को समेटे हुए है। इस स्थल को जोता वाली का मंदिर और नगरकोट भी कहा जाता है। मंदिर में माता के अन्य मंदिरों की तरह मूर्ति की पूजा नहीं की जाती है बल्कि पृथ्वी के गर्भ से निकल रही नौ ज्वालाओं की पूजा की जाती हैं।

Read more

बिलिंग घाटी में हर साल लगता है मानव पक्षियों का तांता

बिलिंग पैराग्लिडिंग के लिए टेकऑफ़ साइट है जबकी बीड लैंडिंग साइट है। सामूहिक रूप से इसे “बीड बिलिंग” कहा जाता है। बीड बिलिंग घाटी पैराग्लाइडिंग के लिए दुनिया भर में मशहूर है। यहां से भी अधिक देशों से पर्यटक पैराग्लाइडिंग करने के लिए पहुंचते हैं।

Read more

कांगड़ा के इस मंदिर में पांडवों ने बनाई थी स्वर्ग जाने की सीढ़ियां

इस मंदिर के बारे में बहुत सारे राज यहां दफन हैं। इस मंदिर का निर्माण कुछ इस तरह से किया गया है कि जब भी सूर्य अस्त होता है, उसकी रोशनी बाथू मंदिर में विराजमान महादेव के चरण छूती है। करीबन 5000 वर्ष पुराना यह मंदिर आठ महीने तक जलमग्न रहता है।

Read more

भक्तों के कष्टों को हर लेती है मां बगलामुखी, पांडवों ने एक रात में किया था मंदिर का निर्माण

मान्यता है कि त्रेतायुग में सीता हरण के बाद भगवान राम ने महृषि वशिष्ठ की सलाह पर माता बगलामुखी की मूर्ति की स्थापना की थी। मूर्ति स्थापना के बाद श्री राम ने यहां शत्रुनाशक यज्ञ पूर्ण किया गया था।

Read more
error: Content is protected !!

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/himalayandiary/public_html/wp-includes/functions.php on line 4469