केदारनाथ-बदरीनाथ की पहाड़ियों पर हुई मौसम की पहली बारिश पर हाईवे पर फंसे हजारों यात्री

केदारनाथ में दिनभर रुक-रुककर होती बारिश के चलते ठंड बढ़ गई है। जबकि, बदरीनाथ धाम में लगातार बारिश से ठंड में इजाफा हो गया। ठंड को देखते हुए तीर्थयात्री अपने कमरों में दुबके रहे। केदारनाथ में अधिकतम तापमान 6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।

Read more

केदारनाथ धाम में सुविधाओं के विकास के लिए योजना तैयार

बिड़ला ग्रुप ने केदारनाथ धाम में 200 लोगों के ठहरने के लिए रैन बसेरा, रावल व पुजारी निवास, आरती-पूजा कक्ष,पंथेर कक्ष, प्रशासनिक भवन व भोग मंडी बनाने पर सहमति जताई है।

Read more

केदारनाथ धाम में उमड़ा भक्तों का सैलाब, पैदल यात्रा का मजा उठा रहे हैं श्रद्धालु

इस साल 24 जून तक ही करीब 447748 श्रद्धालु 17 किलोमीटर की पैदल दूरी तय कर धाम पहुंच चुके हैं, जबकि पिछले साल 347504 श्रद्धालु ही पैदल धाम पहुंचे थे।

Read more

DDRF की टीम ने किया चोराबाड़ी ताल का दौरा, केदारनाथ धाम को कोई खतरा नहीं

डीडीआरएफ की टीम का कहना है कि यहां जो झीलनुमा पानी जमा है, वह ग्लेशियर क्षेत्र में है और इससे केदारनाथ धाम को किसी भी तरह का कोई खतरा नहीं है।

Read more

जिस ताल की वजह से केदारनाथ धाम में हुई थी तबाही, उसमें फिर से भरा पानी

यह ताल अब छह साल बाद फिर से पुनर्जीवित हो रहा है। इस ताल में एक बार फिर से पानी भर गया है। चोराबाड़ी ताल के चारो तरफ ग्लेशियर फैला है और यह टुकड़ों में टूट रहा है।

Read more

प्रधानमंत्री की यात्रा के बाद से ध्यान गुफा को लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह

मंदाकनी नदी के एक छोर पर बनी इस गुफा में हर तरह की आधुनिक सुविधाएं मौजूद हैं। 5 मीटर लंबी और 3 मीटर चौड़ी इस गुफा में बेड, टॉयलेट, बिजली, टेलिफोन और इंटरनेट की व्यवस्था की गई है।

Read more

महाप्रलय के दौरान केदारनाथ धाम में प्रकट हुई थी दिव्य भीम शिला

जब मन्दाकिनी नदी चारों ओर तबाही मचा रही थी उसी दौरान केदारनाथ धाम मंदिर के ठीक पीछे एक विशाल शिला प्रकट हुई जिन्होंने मंदिर को मन्दाकिनी की चोटों से बचा लिया।

Read more

चार धाम और पंच केदारों में प्रमुख है केदारनाथ मंदिर

भगवान शिव को समर्पित यह विशाल मंदिर भूरे रंग के कटवां पत्थरों के विशाल शिलाखंडों को जोड़कर बनाया गया है। मंदिर का निर्माण लगभग 6 फुट ऊंचे चबूतरे पर किया गया है। केदारनाथ मंदिर में स्थित ज्योतिर्लिंग की ऊंचाई 3584 मीटर है।

Read more

औली में हुई सीजन की तीसरी बर्फबारी से झूम उठे पर्यटक, चारों धामों में बिछी बर्फ की चादर

चमोली जिले में बदरीनाथ, हेमकुंड साहिब, औली, रुद्रनाथ, नंदा घुंघटी, नीती और माणा घाटी में भी बर्फबारी हुई। यमुनोत्री धाम के आसपास मौजूद खरसाली, हरकीदून घाटी तथा गंगा घाटी के दयारा आदि क्षेत्रों में भी हल्की बर्फबारी हुई। यमुनोत्री के अलावा केदारनाथ धाम में करीब पांच घंटे तक बर्फबारी हुई, जिससे क्षेत्र में करीब छह इंच मोटी बर्फ की चादर बिछ गई। केदारनाथ धाम में दोपहर एक बजे से शाम 6 बजे तक बर्फबारी हुई। बर्फबारी के कारण केदारनाथ धाम में बर्फीली हवाएं चलने लगी है। इससे तापमान में भी तेजी से गिरावट आई है।

Read more

पर्वतीय इलाकों में बर्फबारी के कारण कड़ाके की ठंड, केदारनाथ धाम में 3 इंच तक जमी बर्फ

बर्फबारी के कारण बाबा के दर्शनों के लिए गए आने वाले भक्तों को भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। केदारनाथ धाम में हुई बर्फबारी से चारों ओर बर्फ की सफेद चादर बिछ गई है। मंगलवार को केदारनाथ में सुबह से ही तेज धूप निकल गई थी, जिसके कारण लोगों ने राहत की महसूस की। लेकिन दोपहर में अचानक एक बार फिर से मौसम ख़राब हुआ। कुछ ही देर में चारों तरफ घना कोहरा छा गया और बर्फबारी का दौर शुरू हो गया। बर्फबारी के कारण केदारनाथ धाम में तापमान 2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है।

Read more

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/himalayandiary/public_html/wp-includes/functions.php on line 4344