प्रधानमंत्री की यात्रा के बाद से ध्यान गुफा को लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह

मंदाकनी नदी के एक छोर पर बनी इस गुफा में हर तरह की आधुनिक सुविधाएं मौजूद हैं। 5 मीटर लंबी और 3 मीटर चौड़ी इस गुफा में बेड, टॉयलेट, बिजली, टेलिफोन और इंटरनेट की व्यवस्था की गई है।

Read more

महाप्रलय के दौरान केदारनाथ धाम में प्रकट हुई थी दिव्य भीम शिला

जब मन्दाकिनी नदी चारो ओर तबाही मचा रही थी उसी दौरान केदारनाथ धाम मंदिर के ठीक पीछे एक विशाल शिला प्रकट हुई जिन्होंने मंदिर को मन्दाकिनी की चोटों से बचा लिया।

Read more

चार धाम और पंच केदारों में से एक है रूद्रप्रयाग में स्थित केदारनाथ मंदिर

भगवान शिव को समर्पित यह विशाल मंदिर भूरे रंग के कटवां पत्थरों के विशाल शिलाखंडों को जोड़कर बनाया गया है। मंदिर का निर्माण लगभग 6 फुट ऊंचे चबूतरे पर किया गया है। केदारनाथ मंदिर में स्थित ज्योतिर्लिंग की ऊंचाई 3584 मीटर है।

Read more

औली में हुई सीजन की तीसरी बर्फबारी से झूम उठे पर्यटक, चारों धामों में बिछी बर्फ की चादर

चमोली जिले में बदरीनाथ, हेमकुंड साहिब, औली, रुद्रनाथ, नंदा घुंघटी, नीती और माणा घाटी में भी बर्फबारी हुई। यमुनोत्री धाम के आसपास मौजूद खरसाली, हरकीदून घाटी तथा गंगा घाटी के दयारा आदि क्षेत्रों में भी हल्की बर्फबारी हुई। यमुनोत्री के अलावा केदारनाथ धाम में करीब पांच घंटे तक बर्फबारी हुई, जिससे क्षेत्र में करीब छह इंच मोटी बर्फ की चादर बिछ गई। केदारनाथ धाम में दोपहर एक बजे से शाम 6 बजे तक बर्फबारी हुई। बर्फबारी के कारण केदारनाथ धाम में बर्फीली हवाएं चलने लगी है। इससे तापमान में भी तेजी से गिरावट आई है।

Read more

पर्वतीय इलाकों में बर्फबारी के कारण कड़ाके की ठंड, केदारनाथ धाम में 3 इंच तक जमी बर्फ

बर्फबारी के कारण बाबा के दर्शनों के लिए गए आने वाले भक्तों को भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। केदारनाथ धाम में हुई बर्फबारी से चारों ओर बर्फ की सफेद चादर बिछ गई है। मंगलवार को केदारनाथ में सुबह से ही तेज धूप निकल गई थी, जिसके कारण लोगों ने राहत की महसूस की। लेकिन दोपहर में अचानक एक बार फिर से मौसम ख़राब हुआ। कुछ ही देर में चारों तरफ घना कोहरा छा गया और बर्फबारी का दौर शुरू हो गया। बर्फबारी के कारण केदारनाथ धाम में तापमान 2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है।

Read more

केदारनाथ धाम आने वाले तीर्थयात्रियों को ठंड से बचाने के लिए प्रशासन ने बनाए वार्म रूम

केदारनाथ धाम आने वाले जिस किसी भी तीर्थयात्री का स्वास्थ्य ठंड के कारण ख़राब हो जाएगा वह इन वार्म रूम का उपयोग कर सकेंगे। खासकर हृदय रोगियों के लिए ये काफी मददगार साबित होंगे। इस योजना के पहले चरण में केदारनाथ, लिंचौली मेडिकल रिलीफ पोस्ट, भीमबली में वार्म रुम बनाए गए हैं। जो तीर्थयात्रियों को विषम परिस्थितयों में काफी मददगार होंगे। केदारनाथ के वार्म रूम में 15, लिंचौली में 10, भीमबली में 5 हीटर लगाए हैं जबकि तीनों पडावों में दो-दो इलेक्ट्रिक ब्लैंकेट भी रखे गए हैं। इनके अलावा अन्य जगहों पर भी वार्म रूम बनाए जाएंगे। केदारनाथ धाम में पहली बार इस तरह का प्रयास किया गया है। इससे पहले यहां ऐसी कोई सुविधा नहीं थी।

Read more

केदारनाथ धाम में अन्नकूट मेले की तैयारियां शुरू, अनाज का लेप लगाकर किया जाएगा श्रृंगार

मेले की शुरुआत में सबसे पहले केदारनाथ मंदिर के मुख्य पुजारी बाबा केदारनाथ के स्वयंभू लिंग की विशेष पूजा-अर्चना करते है। इसके बाद नए अनाज जैसे झंगोरा, चावल, कौणी आदि के लेप से स्वयंभू लिंग का श्रृंगार किया जाता है। माना जाता है कि लेप लगाने से नए अनाज में पाए जाने वाले जहर को भगवान स्वयं ग्रहण कर लेते है। बाबा केदारनाथ के भक्त सोमवार सुबह चार बजे तक स्वयंभू लिंग के दर्शन कर पाएंगे। इसके बाद भगवान को लगाए गए लेप को मंदाकिनी नदी में विसर्जित कर दिया जाता है।

Read more