Mandi इंटरनैशनल एयरपोर्ट को मिली मंजूरी, अब उतर सकेंगे 140 सीटर विमान

मंडी में बनने वाले इंटरनैशनल एयरपोर्ट के निर्माण के लिए सारा खर्च केंद्र सरकार देगी। भूमि अधिग्रहण से लेकर हवाई पट्टी बनाने तक की सारी जिम्मेवारी केंद्र की रहेगी।

Read more

छोटी काशी में श्रावण महोत्सव में उमड़े श्रद्धालु, एक महीने चलेगा अखंड जाप

मंदिर के गर्भ में रूद्राभिषेक व दोनों समय पूजा व आरती का विशेष महत्व है। श्रावण मास महोत्सव के दौरान एकादश रूद्र मंदिर में रोजाना विशाल भंडारे का आयोजन भी किया जाता है।

Read more

मंडी में जल्द बनेगा शिवधाम, स्थापित किए जाएंगे 12 ज्योर्तिलिंग

प्रदेश सरकार मंडी में शिव धाम विकसित करेगी। यहां 12 ज्योतिर्लिंग स्थापित किए जाएंगे और गंगा आरती की तरह ब्यास आरती का आयोजन किया जाएगा।

Read more

ब्यास नदी के किनारे हुआ अलर्ट जारी, छोड़ा गया लारजी डैम से पानी

हर साल नदी का पानी अपने साथ पीछे से बड़ी मात्रा में गाद लेकर आता है जो डैम के किनारों पर जमा हो जाती है। ऐसे में इस गाद को अगर न निकाला जाए तो इससे डैम पर खतरा मंडराने लग जाता है। जिस वजह है कि हर साल बरसात से पहले एक बार डैम की फ्लशिंग की जाती है।

Read more

भीड़ से दूर मंडी की थाची वैली में है प्राकृतिक खूबसूरती का खजाना

यहां के बर्फीले पहाड़, कई सारे खुबसूरत झरने, हरे-भरे घास के मैदान देखकर आप रोमांचित हो उठेंगे। अगर आप प्रकृति से प्यार करते हो तो थाची वैली की खूबसूरती आपको बिलकुल निराश नहीं करेगी।

Read more

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला क्षेत्र में धुंध का प्रकोप, वाहनों की रफ़्तार पर पड़ रहा है असर

सर्दी के चलते मंडी जिला के बल्ह, नाचन और सुंदरनगर में चारों और धुंध फैली हुई है। धुंध के कारण क्षेत्र का एयर इंडेक्स भी नीचे गिर गया है। धुंध का सबसे ज्यादा असर वाहन चालकों पर देखा जा रहा है। धुंध के कारण जहां एक तरह गाड़ियों के रफ़्तार पर असर पड़ा है, वहीँ दूसरी ओर दिन के समय भी वाहनों की लाइटें जला कर वहां चलाने पड़ रहे है।

Read more

चमत्कारिक ममलेश्वर मंदिर में पांडव काल से अब तक जल रहा है अग्निकुंड

ममलेश्वर महादेव मंदिर में पांडवों से जुड़ी कई तरह की निशानियां आज भी मौजूद हैं। इन निशानियों को देखने और भगवान शिव-माता पार्वती के दर्शन करने के लिए यहां बड़ी संख्या में भक्त पहुंचते हैं। यहां देश-विदेश से पर्यटक भी पहुंचते हैं।

Read more

अद्भुत खूबसूरती और रहस्यमयी धार्मिक स्थलों के लिए प्रसिद्द है मंडी की करसोग घाटी

करसोग घाटी को अनूठी लोक-संस्कृति, पारंपरिक रीति-रिवाज, ऐतिहासिक मंदिरों, सेब के बगीचों और कई तरह के पेड़ो के लिए जाना जाता है। यहां का अद्भुत सौंदर्य देखते ही बनता है। करसोग में मौजूद मंदिरों का संबंध महाभारत के काल से माना जाता है।

Read more

प्राकृतिक खूबसूरती और ऐतिहासिक मंदिरों का शहर है हिमाचल प्रदेश का मंडी

मंडी में हिंदू धर्म के 300 से भी ज्यादा मंदिर स्थित हैं। इनमे से ज्यादातर भगवान शिव और माता काली को समर्पित हैं। पंचवक्रता मंदिर, अर्द्धनारीश्‍वेर मंदिर और त्रिलोकनाथ मंदिर यहां के प्रमुख मंदिरों में से एक है। मंडी में स्थित भूतनाथ मंदिर यहां का सबसे प्राचीन मंदिर है। इसका निर्माण 1520 ई। में किया गया था।

Read more

मंडी में है चमत्कारिक शिकारी देवी मंदिर, कोई नहीं बना पाया मंदिर की छत

मंदिर में स्थित माता की मूर्ति खुले आसमान के नीचे स्थापित है। यानि मंदिर में छत नहीं बनी हुई है। आश्चर्य की बात यह है कि इस मंदिर में कई बार छत लगाने का प्रयास किया गया, लेकिन माता की शक्ति के प्रभाव से कभी भी इस मंदिर की छत निर्माण का कार्य पूरा नहीं हो पाया।

Read more

पर्यटन के क्षेत्र में सराजघाटी को मलेगी नई पहचान, मुख्यमंत्री ने किया टूरिस्ट कल्चर सेंटर का शिलान्यास

इस सेंटर की खास बात यह है कि इसका निर्माण प्राचीन शैली में किया जाएगा। इससे यहां आने वाले पर्यटकों को टूरिस्ट कल्चर सेंटर आकर प्राचीन शैली को करीब से जानने का मौका मिलेगा। प्राचीन शैली से बने इन कमरों में पर्यटक सकून के पल भी बिता सकेंगे। इस प्रोजेक्ट के शिलान्यास के दौरान जयराम ठाकुर ने कहा कि टूरिस्ट कल्चर सेंटर के बनने से सराजघाटी को पर्यटन के क्षेत्र में एक नई पहचान मिलेगी। उन्होंने बताया कि सरकार इस दिशा में प्रयासरत है कि कुल्लू-मनाली और शिमला को छोड़कर अन्य अनछुए स्थलों पर भी पर्यटक पहुंचें। जिन अनछुए पर्यटन स्थलों का जिस तरीके से विकास करने की जरूरत है, उस पर्यटन स्थल को उसी तरीके से विकसित करने की योजना सरकार ने बना ली है।

Read more
error: Content is protected !!

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/himalayandiary/public_html/wp-includes/functions.php on line 4469