एडवेंचर लवर्स के लिए स्वर्ग के सामान है खीरगंगा, मनमोहक है यहां की दिलकश खूबसूरती

मान्यता है कि भगवान शिव की कृपा से किसी समय यहां खीर निकलती थी। एक दिन जब परशुराम ने देखा कि लोग इस खीर को खाने के लालच में बावले हुये जा रहे हैं तो उन्होंने श्राप दे दिया कि अब यहां से कोई खीर नहीं निकलेगी। माना जाता है कि इसके बाद से यहां से खीर निकलना बंद हो गई थी। लेकिन आश्चर्य की बात है कि आज भी दूध की मलाई जैसी चीज गरम खौलते पानी के साथ निरंतर निकलती रहती है।

Read more

सोलन की खूबसूरत वादियों के बीच स्थित प्रकृति की गोद में बसा पर्यटन स्थल है बड़ोग

यह टनल एक विशाल पहाड़ के नीचे से 1145 मीटर लंबी और दुनिया की डरावनी सुरंगों में शामिल है। यह टनल कालका–शिमला रेलवे की सबसे बड़ी टनल भी है। इसे दुनिया की सबसे अधिक सीधी टनल के रूप में भी जाना जाता है। बड़ोग में पर्यटकों के देखने के लिए कई आकर्षक स्थल मौजूद है।

Read more

रुद्रप्रयाग के खूबसूरत पर्यटन स्थल चंद्रशिला में होते है प्रकृति के अद्भुत सौंदर्य के दर्शन

यही वह जगह है जहां भगवान राम ने रावण का वध करने के बाद तपस्या की थी। इसके अलावा एक कथा यह भी है कि इस स्थान पर चंद्र देव ने अपना प्रायश्चित संपादित किया था। यहां आने वाले पर्यटक यहां के अद्भुत नजारों के अलावा स्केटिंग, स्कीइंग और पर्वतारोहण जैसी गतिविधियों का भी आनंद ले सकते हैं।

Read more

धरती पर स्वर्ग का एहसास कराती है, पराशर झील की आश्चर्यचकित कर देने वाली खूबसूरती

पराशर झील के आसपास का वातावरण इतना सुंदर और मनमोहक है कि आपको यहां आकर छोटे से स्वर्ग का अहसास होगा। पराशर झील के आसपास हरा-भरा घास का मैदान है जो बहुत खूबसूरत नजर आता है। पराशर झील के पास ही पराशर ऋषि का अद्भुत मंदिर स्थित है।

Read more

कुदरत की नायाब खूबसूरती का आनंद लेने चंबा की ओर खींचे चले आते है पर्यटक

चंबा में आकर आपको ऐसे लगेगा जैसे इसे प्रकृति ने अपने हाथों से बनाया हो। यह हिमाचल प्रदेश को प्रकृति का नायाब तोहफा है। कल-कल बहती रावी और साहल नदियों के बीच बसे चंबा में आकार पर्यटकों को प्राकृतिक खूबसूरती के अलावा लोकरंग और ग्रामीण संस्कृति की नायाब झलक भी देखने को मिलती हैं।

Read more

प्रकृति से है प्यार तो रानीखेत कराएगा आपको स्वर्ग का अहसास

प्रकृति प्रेमियों के लिए स्वर्ग कहे जाने वाला रानीखेत आम पर्यटकों के अलावा फिल्म निर्माताओं की भी पहली पसंद हैं। खूबसूरत घाटियां, ऊंचे-ऊंचे दूर तक फैले पर्वत, घना जंगल, टेढ़ी-मेढ़ी जलधारा, सुंदर वास्तु कला वाले प्राचीन मंदिर, कई प्रकार के पक्षी, ग्रामीण परिवेश और प्रदुषण मुक्त वातावरण रानीखेत को एक आदर्श पर्यटन स्थल बनाते हैं।

Read more

प्राकृतिक सौंदर्य के बीच टोंस नदी के किनारे स्थित एक आदर्श पर्यटन स्थल है मोरी

बहती हुई टोंस नदी, हरे-भरे धान के खेत, खूबसूरत झीलें और देवदार के पेड़ मोरी को एक आदर्श हिल स्टेशन बनाते हैं। मोरी में एशिया का सबसे लंबा देवदार का जंगल स्थित है। मोरी सिर्फ प्राकृतिक संपदा के लिए ही प्रसिद्द नहीं है बल्कि इसे प्राचीन मंदिरों और बेहतरीन वास्तुशिल्प के लिए भी जाना जाता हैं।

Read more

ट्रैकिंग के लिए जन्नत है प्राकृतिक सौंदर्य और रोमांच से भरपूर उत्तरकाशी का डोडीताल

डोडीताल में मां अन्नपूर्णा का मंदिर भी है जिसमें मां अन्नपूर्णा के दर्शन करने के बाद पर्यटक डोडीझील का लुफ्त उठाते है। कई लोगों का मानना है कि यहां पर भगवान गणेश का जन्म हुआ था, इसलिए डोडीताल झील को गणेशताल भी कहते हैं। यहां भगवान गणेश को समर्पित एक मंदिर भी है।

Read more

उत्तराखंड का खूबसूरत बादलाें का शहर लैंसडाउन

प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर इस इलाके में देखने लायक काफी कुछ है। प्राकृतिक छटा का आनंद लेने के लिए टिप इन टॉप जा सकते हैं। यहां से बर्फीली चोटी का और मनोरम दृश्य देखा जा सकता है। दूर-दूर तक फैले पर्वतों और उनके बीच छोटे-छोटे कई गांव भी दिखाई देंगे।

Read more
error: Content is protected !!