घने जंगल के आंचल में बसा है प्रसिद्ध माता बाला सुंदरी का मंदिर

घने वन के आंचल में बसे त्रिलोकपुर में माता बाला सुंदरी का लगभग 350 वर्ष पुराना मंदिर स्थित है। माता बालासुंदरी के मंदिर का धार्मिक और पर्यटन की दृष्टि से विशेष महत्व है।

Read more

प्रकृति के सौंदर्य के बीच किश्तवाड़ में स्थित है मां दुर्गा का चमत्कारिक मंदिर

मान्यता है कि प्राचीन समय में जब भी किसी शासक ने लद्दाख या अन्य क्षेत्र में चढ़ाई की तो उसने इस मार्ग से गुजरते हुए मचैल माता मंदिर में आकर आशीर्वाद जरुर लिया था।

Read more

अद्भुत प्राकृतिक खूबसूरती के बीच स्थित है सिखों का पवित्र स्थल श्री हेमकुंड साहिब

श्री हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा जितना पवित्र स्थान है, उतना ही खूबसूरत भी है। ऐसा लगता है जैसे प्रकृति ने दिल खोल कर इस जगह पर अपनी खूबसूरती लुटाई है।

Read more

चंबा में है भलेई माता का अनोखा मंदिर, मूर्ति को आता है पसीना

स्थानीय मान्यता के अनुसार मां की मूर्ति पर अगर पसीना आ जाए तो मंदिर में मौजूद सभी भक्तोंं की मनोकामना जरुर पूरी होती है। ऐसे में श्रद्धालु घटों तक मंदिर में बैठकर मूर्ति पर पसीना आने का इंतजार करते हैं।

Read more

Dharamshala में है अघंजर महादेव मंदिर, भगवान शिव ने अर्जुन को दिया था पशुपति अस्त्र

अघंजर महादेव मंदिर को लेकर मान्यता है कि अज्ञातवास के दौरान पांडव यहां आए थे। इस दौरान पांडु पुत्र अर्जुन ने भगवान श्रीकृष्ण के कहने पर यहां भगवान शिव की तपस्या की थी और उनसे एक अस्त्र प्राप्त किया था।

Read more

पंच बद्री में से एक है वृद्ध बद्री मंदिर, भगवान विष्णु ने दिए थे वृद्ध रूप में दर्शन

वृद्ध बद्री मंदिर में भगवान विष्णु की मूर्ति एक बूढ़े व्यक्ति के रूप में स्थापित है, यहीं कारण है कि इस धार्मिक स्थल को वृद्ध बद्री मंदिर के नाम से जाना जाता है। बद्री, भगवान विष्णु का एक नाम है।

Read more

जम्मू के ऐतिहासिक बाहु किले के अंदर है चमत्कारी बावे वाली माता का मंदिर

राजा ने हाथियों की सहायता से देवी की मूर्ती के मुंह को अपने महल की ओर करने की कोशिश की, लेकिन जैसे ही हाथी मूर्ती को खींचते हाथी दर्द के मारे चिंघाड़ने लगते। ऐसे में राजा ने मूर्ती को यहीं स्थापित रहने देने का फैसला किया।

Read more

भगवान शिव को पाने के लिए हरिद्वार के इस स्थान पर माता पार्वती ने की थी तपस्या

यहां रहने के दौरान माता पार्वती को पीने के पानी की समस्या आती थी। ऐसे में देवताओं के निवेदन करने पर स्वयं परमपिता ब्रह्मा ने अपने कमंडल से गंगा की जलधारा प्रकट करते थे। बिल्केश्वर महादेव मंदिर के नजदीक ही एक कुंड है, जिसे गौरी कुंड कहा जाता है।

Read more

बागेश्वर में है प्रसिद्द बागनाथ मंदिर, यहां बाघ रूप में प्रकट हुए थे भगवान शिव

यह स्थान मार्केंडेय ऋषि की तपोभूमि रहा है। यहीं पर मार्केंडेय ऋषि ने भगवान शिव की पूजा की थी। मार्केंडेय ऋषि की पूजा से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने बाघ रूप में उन्हें दर्शन दिया था। इसी कारण इस जगह को पहले व्याघ्रेश्वर” नाम से जाना गया, जो बाद में बागेश्वर हो गया।

Read more

श्रीखंड महादेव यात्रा की हुई शुरुआत, दुर्गम और खतरनाक रास्तें से गुजरते हैं श्रद्धालु

सोमवार को प्रदेश के कुल्लू के आनी से इस दुर्गम यात्रा की शुरूआत हो गई है। आमतौर पर 15 दिनों तक चलने वाली यह यात्रा इस साल 15 जुलाई से 25 जुलाई तक आयोजित की जा रही है।

Read more

प्रकृति की गोद में बसा है प्रसिद्ध मंकी पॉइंट, यहां पड़े थे हनुमान जी के पांव

मंकी पॉइंट पर आकर पर्यटक खुद को प्रकृति के बीच महसूस करते हैं। इस स्थान से सतलुज नदी, चंडीगढ़ और बर्फ ढकी से चूर चांदनी चोटी के दर्शन होते हैं।

Read more
error: Content is protected !!

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/himalayandiary/public_html/wp-includes/functions.php on line 4469