Religious Places Archives - THE HIMALAYAN DIARY

विष्णु गंगा और अलकनंदा नदी के संगम पर मौजूद है विष्णुप्रयाग

यह वही स्थान है जहां पर नारद मुनि ने अष्टाक्षरी जप कर भगवान विष्णु को प्रसन्न किया था। नारद मुनि से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु स्वयं उन्हें दर्शन देने के लिए इस स्थान पर प्रकट हुए थे। विष्णुप्रयाग में भगवान विष्णु का प्राचीन मंदिर और विष्णु कुण्ड है।

Read more

सोलन में है ऐतिहासिक शूलिनी देवी का मंदिर, दर्शन मात्र से मिलती है सुख-समृद्धि

भक्त माता शूलिनी को दिव्या माता, आदि-परा शक्ति , महाशक्ति , लता देवी जैसे नामों से भी जानते हैं। भक्तों का विश्वास है कि माता शूलिनी की सच्चे मन से आराधना करने से घर में सुख-समृद्धि और खुशहाली आती है।

Read more

पिथौरागढ़ में है प्रसिद्ध गुरना माता मंदिर, अपने भक्तों की करती हैं रक्षा

भक्तों का विश्वास है कि माता के मंदिर में जो भी व्यक्ति सच्चे मन से प्रार्थना करता है उसकी सभी मनोकामना जरुर पूरी होती हैं. भक्तों के बीच गुरना देवी मंदिर की मान्यता जम्मू कश्मीर के प्रसिद्द ‘वैष्णो देवी मंदिर’ के समान है.

Read more

जम्मू के सुध महादेव मंदिर में आज भी मौजूद है भगवान शिव का खंडित त्रिशूल

इस स्थल को बाबा रूप नाथ के स्थल के तौर पर भी जाना जाता है। बाबा रूप नाथ की धूनी या ‘अनन्त लौ’ अभी भी लगातार जल रही है और इसे आज भी मंदिर में देखा जा सकता है। जून की पूर्णिमा की रात को यहां विशेष तौर पर भारी संख्या में भक्त आते हैं।

Read more

रानीखेत में है मां झूला देवी का मंदिर, आज भी करती है अपने भक्तों की रक्षा

एक दिन एक चरवाहे को सपने में देवी दुर्गा ने दर्शन दिये और एक विशेष स्थान पर खुदाई कर मूर्ति निकालने के संकेत दिए। जब चरवाहे ने उस स्थान पर खुदाई की तो उस स्थान पर मूर्ति निकली। इसके बाद उस स्थान पर ही मूर्ति की स्थापना कर एक मंदिर का निर्माण किया गया था।

Read more

टिहरी गढ़वाल में स्थित है प्राकृतिक खूबसूरती से भरपूर प्रसिद्द हिल स्टेशन कनाताल

धार्मिक और प्राकृतिक स्थलों का मजा लेने के अलावा कनाताल में आप रोमांचक एडवेंचर गतिविधियों का आनंद भी उठा सकते है। विश्व के उच्चतम बांधों में से एक टेहरी बांध, कनाताल के मुख्य आकर्षण में से एक है। कनाताल के कोडाई जंगल में पर्यटक ट्रैकिंग का मजा ले सकते हैं।

Read more

पार्वती घाटी में बसा है ऐतिहासिक धार्मिक स्थल मणिकर्ण साहिब

मणिकर्ण साहिब गुरूद्धारे को लेकर लोगों की मान्यता है कि गुरू नानक देव जी ने अपनी यात्रा के दौरान सबसे पहले इसी जगह पर ध्यान लगाया था। मणिकर्ण दो शब्द मणि और कर्ण से मिलकर बना हुआ हैं। मणि का मतलब बेशकीमती पत्थर और कर्ण का मतलब कान होता है।

Read more

हरिद्वार में है प्रमुख शक्तिपीठ माया देवी मंदिर, होती है सारी मनोकामना पूरी

इस मंदिर में धार्मिक अनुष्ठान के साथ ही तंत्र साधना भी की जाती है। माया देवी के मंदिर में माता की मूर्ति के चार भुजा और तीन मुंह हैं। मूर्ति के बायें हाथ पर देवी काली और दायें हाथ पर देवी कामाख्या की मूर्ति हैं। माया देवी मंदिर के साथ ही यहां भैरव बाबा का मंदिर भी मौजूद है।

Read more

चमोली में है शिव का प्राचीनतम धाम, दर्शन मात्र से ही दूर हो जाते हैं कष्ट

गोपेश्वर मंदिर अपनी वास्तुकला के लिए भी जाना जाता है। मंदिर का गर्भगृह 30 वर्ग फुट का है। गोपीनाथ धाम प्रसिद्द चार मंदिरों तुंगनाथ, अनसुया देवी, रुद्रनाथ और बद्रीनाथ से घिरा हुआ है। मंदिर के गर्भगृह में भव्य शिवलिंग और उसके सामने माता पार्वती की प्रतिमा विराजमान है।

Read more

रुद्रप्रयाग में है कार्तिक स्वामी मंदिर, निसंतान दंपति की कामना होती है पूरी

कार्तिक स्वामी का मंदिर भगवान शिव के ज्येष्ठ पुत्र कार्तिकेय जी को समर्पित है। यह मंदिर भगवान कार्तिक को समर्पित उत्तराखंड का एकमात्र मंदिर है। शक्तिशाली हिमालय की श्रेणियों से घिरा हुआ यह क्षेत्र समुद्र की सतह से 3048 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।

Read more