Tourism Archives - THE HIMALAYAN DIARY

बर्फबारी के चलते हिमाचल प्रदेश सरकार ने पर्यटकों को दी पहाड़ी इलाकों में न जाने की सलाह

गौरतलब है कि प्रदेश में सर्दियों ने अपनी दस्तक दे दी है। इस मौसम में लाहौल-स्पीति, किन्नौर और कुल्लू की पहाड़ियों पर अप्रत्याशित बर्फबारी की संभावना हमेशा बनी हुई रहती है, साथ ही हिमस्खलन का खतरा भी होता है। ऐसे में किसी भी प्रकार की अनहोनी से बचने के लिए सरकार की तरफ से पर्यटकों व स्थानीय लोगों को ऊंचाई वाले क्षेत्रों का रुख न करने की सलाह दी है। इस बीच अतिरिक्त मुख्य सचिव लोक निर्माण, राजस्व एवं आपदा प्रबन्धन ने सोमवार को बताया कि भारी बर्फबारी के कारण चम्बा जिले के होली क्षेत्र फंसे तीन युवकों को भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर की मदद से बचा लिया गया हैं।

Read more

यमुनोत्री: शांति व शीतलता प्रदान करने वाला पर्यटन स्थल ही नहीं, हिन्दुओं का आध्यात्मिक केन्द्र भी है

यमुनोत्री को हिमालय श्रृंखला के कलिंद पर्वत से निकलने की वजह से कालिंदी भी कहा जाता है। पुराणों में उल्लेख है कि भगवान श्रीकृष्ण की आठ पटरानियों में एक प्रियतर पटरानी कालिंदी (यमुना) भी हैं। पुराणों में यमुना, सूर्य-पुत्री कही गयी हैं।

Read more

लौटेगी कश्मीर की डल झील की पुरानी शानो-शौकत, विकास के लिए बना ये प्रोग्राम

अतिक्रमण, प्रदूषण, गंदगी और घटते आकार जैसी चुनौतियों से जूझ रही कश्मीर घाटी की सबसे मशहूर डल झील की पुरानी शानों-शौकत लौटाने के प्रयास शुरू हो गए हैं। पर्यटकों के इस पसंदीदा स्थल के विकास को पांच सूत्रीय प्रोग्राम बनाया गया है जिसे हाल ही में राज्यपाल एनएन वोहरा ने मंजूरी दी है। लगातार अतिक्रमण के चलते डल झील का आकार 22 वर्ग किलोमीटर के अपने मूल क्षेत्र से लगभग 10 वर्ग किमी तक कम हो गया है।

Read more

कुल्लू घाटी में सबसे पवित्र है हनोगी माता मंदिर, आसपास एडवेंचर का भी है पूरा इंतजाम

यदि आप पूरी तरह धार्मिक और आध्यात्मिक यात्रा के लिए निकलते हैं तो यहां हनोगी मंदिर के अलावा हदीम्बा मंदिर, जगतसुख, मनु मंदिर, जगन्नाथ देवी मंदिर, बसेश्वर महादेव मंदिर, रघुनाथ मंदिर, बिलील महादेव मंदिर और जमूला मंदिर ऐसे स्थान हैं जहां आप दर्षन कर अपनी मनोकामनाएं मांग सकते हैं। हां, मूड कुछ एडवेंचर का है तो यहां इसकी पर्याप्त व्यवस्था है।

Read more

दिल्ली से कश्मीर घाटी तक जब चल जाएगी रेल, यूँ बदल जायेगा सैर का अंदाज़

देश के सबसे सुंदर इलाके को अभी भारतीय रेल नेटवर्क से नहीं जोड़ा जा सकता है। अधिक बारिश या सर्दियों में घनी बर्फबारी के चलते यहां घूमने आने की इच्छा बस मन में मचलकर ही रह जाती है। क्योंकि बरसात में प्रमुख पर्यटन स्थलों को जोड़ने वाले हाईवे भूस्खलन के चलते जाम हो जाते हैं तो सर्दियों में बर्फ के कारण इन रास्तों से गुजरना नामुमकिन हो जाता है।

Read more

दिमागी और रूहानी सुकून के लिए जन्नत की वादियों में इस जगह आते हैं दुनियाभर से सैलानी

जम्मू-कश्मीर में पीर की गली आध्यात्मिक के साथ-साथ पर्यटन स्थल के रूप में लोकप्रियता के शिखर को छू रही है। पीर की गैली के आसपास बर्फ से ढकी ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों की चोटियां अविश्वसनीय सौंदर्यता समेटे हुए है। यहां दूर तक फैली आकर्षक पहाड़ी श्रृंखलाओं में सैलानी दिमागी और रूहानी सुकून पाने के लिए आते हैं, क्योंकि यहां के षांत प्राकृतिक नजारे इतने मोहक हैं कि लोगों को खुद ब खुद ऐसा महसूस करते हैं जैसे जन्नत की वादियों में आ गए हों।

Read more

हिमाचल-उत्तराखंड में होगी भारी बारिश, अगले 3 दिन खतरनाक डेस्टिनेशन पर जाने से बचें

मानसून सीजन में पहाड़ी इलाकों खासकर उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में खूब बारिश हो रही है। इससे तीर्थ यात्रा पर निकले भक्तों को कुछ दिक्कत जरूर हो रही है, लेकिन एडवेंचर और परेशानी में भी कुछ अलग करने की चाह में पहाड़ों का रुख करने वाले लोगों के लिए जैसे मन मांगी मुराद पूरी हो रही है। मौसम विभाग ने अगले तीन दिन तक उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में भारी से भारी वर्षा होने का पूर्वानुमान जारी किया है।

Read more

पहाड़ों में आरामदायक सफर, हिमाचल में लोकप्रिय टूरिस्ट स्पाॅट तक चलेंगी कूल इलेक्ट्रिक बसें

पहाड़ी टूरिस्ट स्पाॅट तक आरामदायक सफर कराने के मकसद से आधुनिक सुविधाओं वाली कूल-कूल इलेक्ट्रिक बसें चलाई जाएंगी। कसौली, कुल्लू-मनाली, धर्मशाला-मैक्लोडगंज, डलहौजी-चंबा और शिमला-सोलन जैसे शहरों में बारहों महीने पर्यटकों का तांता लगा रहता है लेकिन, यहां तक पहुंचने में पर्यटकों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। प्रदूषण फैलाने वाली डीजल-पेट्राल ट्रांसपोर्ट सेवाओं से पर्यावरण को भी नुकसान पहंचता है।

Read more

पर्यटकों को अपनी ओर खींचती हैं धरती की जन्नत कश्मीर में महू मंगित की वादियां

यूं तो जम्मू-कश्मीर के रामबन जिले में कई मशहूर पर्यटन स्थल हैं। पटनी चोटी और सनासार जैसी कुछ डेस्टिनेशन पर्यटकों

Read more

अगले साल लेह, जोजिला व लाहौल-स्पीति जैसे बर्फीले पर्यटन स्थलों तक पहुंचना होगा आसान

देश-विदेश में मशहूर मनाली-लेह और लाहौल-स्पीति समेत तमाम खूबसूरत पर्यटन स्थलों तक पहुंचना अब आसान होने वाला है। पहाड़ी बर्फीले क्षेत्रों में सीमा तक सेना की आसान आवाजाही और दुर्गम पहाड़ी टूरिस्ट स्पाॅट पर सालभर पर्यटकों की चहल-पहल बनाए रखने के मकसद से रोहतांग टनल का निर्माण किया जा रहा है। यह टनल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्राथमिकताओं में से एक है।परियोजना से जुड़े अधिकारी जल्द से जल्द इसे पूरा करने के प्रयास कर रहे हैं।

Read more