रुद्रप्रयाग के खूबसूरत पर्यटन स्थल चंद्रशिला में होते है प्रकृति के अद्भुत सौंदर्य के दर्शन

यही वह जगह है जहां भगवान राम ने रावण का वध करने के बाद तपस्या की थी। इसके अलावा एक कथा यह भी है कि इस स्थान पर चंद्र देव ने अपना प्रायश्चित संपादित किया था। यहां आने वाले पर्यटक यहां के अद्भुत नजारों के अलावा स्केटिंग, स्कीइंग और पर्वतारोहण जैसी गतिविधियों का भी आनंद ले सकते हैं।

Read more

प्रकृति से है प्यार तो रानीखेत कराएगा आपको स्वर्ग का अहसास

प्रकृति प्रेमियों के लिए स्वर्ग कहे जाने वाला रानीखेत आम पर्यटकों के अलावा फिल्म निर्माताओं की भी पहली पसंद हैं। खूबसूरत घाटियां, ऊंचे-ऊंचे दूर तक फैले पर्वत, घना जंगल, टेढ़ी-मेढ़ी जलधारा, सुंदर वास्तु कला वाले प्राचीन मंदिर, कई प्रकार के पक्षी, ग्रामीण परिवेश और प्रदुषण मुक्त वातावरण रानीखेत को एक आदर्श पर्यटन स्थल बनाते हैं।

Read more

अनछुई खूबसूरती और शांत वातावरण, प्रकृति प्रेमियों की पसंदीदा जगह है डीडीहाट

डीडीहाट की प्राकृतिक सुंदरता के बीच खुले असमान के नीचे सितारों को देखते हुए रात बिताना कभी न भूला देने वाला अनुभव प्रदान करता है। इसके अलावा डीडीहाट में आकार पर्यटकों को कुमाऊ के हिमालय में बसे लोगो की देहाती जीवनशैली, रीती-रिवाजों और संस्कृति को करीब से जानने का मौका मिलता हैं।

Read more

रानीखेत में है मां झूला देवी का मंदिर, आज भी करती है अपने भक्तों की रक्षा

एक दिन एक चरवाहे को सपने में देवी दुर्गा ने दर्शन दिये और एक विशेष स्थान पर खुदाई कर मूर्ति निकालने के संकेत दिए। जब चरवाहे ने उस स्थान पर खुदाई की तो उस स्थान पर मूर्ति निकली। इसके बाद उस स्थान पर ही मूर्ति की स्थापना कर एक मंदिर का निर्माण किया गया था।

Read more

रुद्रप्रयाग में है कार्तिक स्वामी मंदिर, निसंतान दंपति की कामना होती है पूरी

कार्तिक स्वामी का मंदिर भगवान शिव के ज्येष्ठ पुत्र कार्तिकेय जी को समर्पित है। यह मंदिर भगवान कार्तिक को समर्पित उत्तराखंड का एकमात्र मंदिर है। शक्तिशाली हिमालय की श्रेणियों से घिरा हुआ यह क्षेत्र समुद्र की सतह से 3048 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।

Read more

नैनीताल के ज्योलिकोट में आपको मिलेगी प्रकृति की असीमित खूबसूरती

आमतौर पर ज्योलिकोट में दिन के समय गर्मी और रात के समय ठंड रहती है। चांदनी रात में यहां की छटा देखने लायक होती है। यहां आकर पर्यटक कम ऊंचाई वाले ट्रेकिंग और दुर्गम इलाकों का दौरा कर सकते हैं। ज्योलिकोट में कई छोटे-छोटे मंदिर और मठ बने हुए हैं।

Read more

अल्मोड़ा में है चमत्कारिक कसार देवी मंदिर, साक्षात प्रकट हुई थी मां दुर्गा

इस धार्मिक स्थल को लेकर एक पौराणिक कथा भी काफी प्रचलित है। मान्यता है कि आज से ढाई हजार साल पहले मां दुर्गा ने “देवी कात्यायनी” का रूप धारण करके शुम्भ-निशुम्भ नाम के दो राक्षसों का वध किया था। तभी से इस स्थान भक्तों की आस्था का केंद्र बना हुआ है।

Read more

बटर फेस्टिवल के लिए तैयार है उत्तरकाशी का दयारा बुग्याल, खेली जाएगी दूध-मक्खन से होली

पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए प्रशासन और रैथल के ग्रामीणों ने कमर कस ली है। इस बार होने वाले बटर फेस्टिवल में आने वाले पर्यटकों को पहाड़ के पारंपरिक व्यंजनों का स्वाद भी चखने को मिलेगा। इसके लिए स्थानीय व्यंजनों की प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी, जिसमें स्थानीय महिलाएं प्रतिभाग करेगी। तैयारियों का जायजा लेते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि बटर फेस्टिवल को ग्रीन बटर फेस्विल के रूप में मनाया जाएगा। इस फेस्टिवल में पॉलीथिन पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेगी।

Read more

प्राकृतिक सुंदरता और ऐतिहासिक मंदिर, चंपावत में मिलती है असीम शांति

प्राकृतिक सुदंरता से भरपूर चंपावत अपने आकर्षक मंदिरों और खूबसूरत वास्तुशिल्प के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। चंपावत आने वाले पर्यटक यहां के ऐतिहासिक मंदिरों के साथ साथ वन्यजीवों से लेकर हरे-भरे मैदानों तक और ट्रैकिंग का लुत्फ उठा सकते हैं।

Read more

भारत का स्विट्जरलैंड है औली, परिवार के साथ लें इस खूबसूरत जगह का आनंद

अगर आप भी सर्दियों के मौसम में औली के मनमोहक नज़रों का आनंद उठाना चाहते हो तो इस बात का विशेष ध्यान रखे कि यहां हर समय तापमान 0 डिग्री से नीचे रहता है। इसलिए अपने साथ ज्यादा ज्यादा ऊनी कपड़े लेकर जाएं।

Read more
error: Content is protected !!