17 अगस्त को उत्तराखंड के दयारा बुग्याल में मनाया जाएगा ‘बटर फेस्टिवल’

उत्तरकाशी में स्थित दयारा बुग्याल समुद्र तल से 11 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यहां हर साल प्रसिद्ध “बटर फेस्टिवल” मनाया जाता है, जिसे स्थानीय भाषा में अंढूड़ी उत्सव कहा जाता है।

Read more

चकराता में दिखाई देता है खूबसूरत नजारा, मॉनसून में करें घूमने का प्लान

चकराता, देहरादून जिले में एक छावनी शहर है​ जो कि टोंस और यमुना नदियों के बीच है। चकराता को कर्नल ह्यूम और उनके सहयोगी अधिकारियों ने बसाया था।

Read more

हसीन वादियों से घिरा खूबसूरत पर्यटन स्थल है उत्तराखंड का Srinagar

शहरों की चिलचिलाती धूप से दूर श्रीनगर में आप अपने परिवार के साथ अच्छा समय बिता सकते हैं। सर्दियों के मौसम में यहां हल्की बर्फबारी होती है।

Read more

प्रकृति की गोद में बसा एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है देहरादून का कलसी

कलसी में स्थित डक पत्थर यहां का खूबसूरत और लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट है. यहां आकर पर्यटक कैनोइंग, नौकायन, वाटर स्कीइंग और होवरक्राफ्ट जैसी मनोरंजन गतिविधियों का आनंद ले सकता हैं. कलसी में बहने वाली यमुना नदी प्रदुषण रहित है.

Read more

उत्तराखंड के टिहरी जिले में स्थित है प्रसिद्द सिद्धपीठ मां कुंजापुरी देवी मंदिर

मां कुंजापुरी देवी मंदिर भक्तों की अटूट आस्था का केन्द्र है। मान्यता है कि यहां आने वाले सभी भक्तों की मनोकामनायें जरुर पूर्ण होती हैं। मंदिर के गर्भ गृह में कोई प्रतिमा नहीं है बल्कि एक गड्ढा है। माना जाता है कि यहीं वह स्थान है जहां माता सती का कुंजा गिरा था।

Read more

प्राकृतिक सौंदर्य के बीच टोंस नदी के किनारे स्थित एक आदर्श पर्यटन स्थल है मोरी

बहती हुई टोंस नदी, हरे-भरे धान के खेत, खूबसूरत झीलें और देवदार के पेड़ मोरी को एक आदर्श हिल स्टेशन बनाते हैं। मोरी में एशिया का सबसे लंबा देवदार का जंगल स्थित है। मोरी सिर्फ प्राकृतिक संपदा के लिए ही प्रसिद्द नहीं है बल्कि इसे प्राचीन मंदिरों और बेहतरीन वास्तुशिल्प के लिए भी जाना जाता हैं।

Read more

ट्रैकिंग के लिए जन्नत है प्राकृतिक सौंदर्य और रोमांच से भरपूर उत्तरकाशी का डोडीताल

डोडीताल में मां अन्नपूर्णा का मंदिर भी है जिसमें मां अन्नपूर्णा के दर्शन करने के बाद पर्यटक डोडीझील का लुफ्त उठाते है। कई लोगों का मानना है कि यहां पर भगवान गणेश का जन्म हुआ था, इसलिए डोडीताल झील को गणेशताल भी कहते हैं। यहां भगवान गणेश को समर्पित एक मंदिर भी है।

Read more

गंगोलीहाट के इस मंदिर में साक्षात् विश्राम करती है मां कालिका देवी

मंदिर में शाम को महाआरती के बाद शक्ति के पास महाकाली का बिस्तर लगाया जाता है। जब सुबह बिस्तर को देखा जाता है तो उस पर सलवटें पड़ी रहती हैं मानों यहां साक्षात मां कालिका विश्राम करके गई हो। यह मंदिर इस क्षेत्र की लोगों की आस्था का केंद्र हैं।

Read more

हिमालय की गोद में बसे मुक्तेश्वर में नजर आता है प्रकृति का अद्भुत सौंदर्य

मुक्तेश्वर में घुमने लायक कई आकर्षक स्थल मौजूद हैं, जिनमे मुक्तेश्वर मंदिर बहुत ही प्रसिद्द है। 350 साल पुराने भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर एक छोटी सी पहाड़ी पर बना हुआ है। मंदिर तक पहुंचने के लिए 100 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं।

Read more

शांत पानी और सुंदर हरियाली, पिकनिक मनाने के लिए सर्वश्रेष्ठ जगह है भीमताल

भीमताल झील की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यहां की प्राकृतिक खूबसूरती देखते ही बनती है। भीमताल झील की लंबाई 1674 मीटर, चौड़ाई 427 मीटर और गहराई 30 मीटर है। सवा किलोमीटर के क्षेत्र में फैली हुई इस झील के बीच में ज्वालामुखी चट्टानों से निर्मित एक छोटा सा द्वीप है।

Read more