Tehri में है देश का सबसे बड़ा बांध, साहसिक पर्यटन के लिए है मशहूर

टिहरी झील पर पर्यटक नौका विहार, जेट स्पीड बोट सवारी, वाटर स्कीइंग, जोर्बिंग, बनाना वोट सवारी, बैंडवेगन वोट सवारी, हॉटडॉग सवारी, पैराग्लाइडिंग का मजा ले सकते हैं।

Read more

हसीन वादियों से घिरा खूबसूरत पर्यटन स्थल है उत्तराखंड का Srinagar

शहरों की चिलचिलाती धूप से दूर श्रीनगर में आप अपने परिवार के साथ अच्छा समय बिता सकते हैं। सर्दियों के मौसम में यहां हल्की बर्फबारी होती है।

Read more

चमत्कारिक ममलेश्वर मंदिर में पांडव काल से अब तक जल रहा है अग्निकुंड

ममलेश्वर महादेव मंदिर में पांडवों से जुड़ी कई तरह की निशानियां आज भी मौजूद हैं। इन निशानियों को देखने और भगवान शिव-माता पार्वती के दर्शन करने के लिए यहां बड़ी संख्या में भक्त पहुंचते हैं। यहां देश-विदेश से पर्यटक भी पहुंचते हैं।

Read more

अद्भुत खूबसूरती और रहस्यमयी धार्मिक स्थलों के लिए प्रसिद्द है मंडी की करसोग घाटी

करसोग घाटी को अनूठी लोक-संस्कृति, पारंपरिक रीति-रिवाज, ऐतिहासिक मंदिरों, सेब के बगीचों और कई तरह के पेड़ो के लिए जाना जाता है। यहां का अद्भुत सौंदर्य देखते ही बनता है। करसोग में मौजूद मंदिरों का संबंध महाभारत के काल से माना जाता है।

Read more

अनछुई खूबसूरती और शांत वातावरण, प्रकृति प्रेमियों की पसंदीदा जगह है डीडीहाट

डीडीहाट की प्राकृतिक सुंदरता के बीच खुले असमान के नीचे सितारों को देखते हुए रात बिताना कभी न भूला देने वाला अनुभव प्रदान करता है। इसके अलावा डीडीहाट में आकार पर्यटकों को कुमाऊ के हिमालय में बसे लोगो की देहाती जीवनशैली, रीती-रिवाजों और संस्कृति को करीब से जानने का मौका मिलता हैं।

Read more

जम्मू के सुध महादेव मंदिर में आज भी मौजूद है भगवान शिव का खंडित त्रिशूल

इस स्थल को बाबा रूप नाथ के स्थल के तौर पर भी जाना जाता है। बाबा रूप नाथ की धूनी या ‘अनन्त लौ’ अभी भी लगातार जल रही है और इसे आज भी मंदिर में देखा जा सकता है। जून की पूर्णिमा की रात को यहां विशेष तौर पर भारी संख्या में भक्त आते हैं।

Read more

सिरमौर में स्थित है तालाबों का शहर नाहन, मिलेगी दिल को छू लेने वाली खूबसूरती

नाहन आने वाले पर्यटक यहां ट्रैकिंग का आनंद भी उठा सकते है। ट्रैकिंग को पसंद करने वाले पर्यटकों को यहां का 15 से 40 किलोमीटर का ट्रैकिंग मार्ग बहुत पसंद आता है। ट्रैकिंग मार्ग में पर्यटकों को सुंदर पक्षियों और जानवरों का अवसर मिलता है।

Read more

पवित्र स्थल है यमुनोत्री धाम, गर्म पानी की झील में पकाया जाता है प्रसाद

यहां स्थित गर्म पानी के फव्वारे इस क्षेत्र के मुख्य आकर्षण में से एक हैं। इनमें सूर्य कुंड सबसे प्रमुख है। यहां प्रसाद तैयार करने एक लिए एक मलमल के कपड़े में चावल और आलू को रखकर उसे गर्म पानी के झरने के उबलते पानी में पकाया जाता है।

Read more

हिमाचल को प्रकृति का नायाब तोहफा है कुल्लू का नग्गर

इस नगर की एक ओर खास बात यह है कि यहां कदम-कदम पर होटल और रेस्त्रां है, लेकिन फिर भी सफाई ऐसी की आप सड़क पर बैठकर खाना खा सकते हो। नग्गर को देखकर आपको ऐसा लगेगा जैसे प्रकृति ने इसे बड़ी ही फुर्सत में तराशा है।

Read more

भक्तों के कष्टों को हर लेती है मां बगलामुखी, पांडवों ने एक रात में किया था मंदिर का निर्माण

मान्यता है कि त्रेतायुग में सीता हरण के बाद भगवान राम ने महृषि वशिष्ठ की सलाह पर माता बगलामुखी की मूर्ति की स्थापना की थी। मूर्ति स्थापना के बाद श्री राम ने यहां शत्रुनाशक यज्ञ पूर्ण किया गया था।

Read more