खत्म हुआ पर्यटकों का इंतजार, आज से कर सकेंगे Rohtang Pass का दीदार

रोहतांग दर्रे को हिमाचल प्रदेश के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थल में से एक माना जाता है। यहां जून के महीने में बड़ी संख्या में पर्यटक पहुंचते हैं। इस बार रोहतांग दर्रे पर मस्ती करने के लिए पर्यटकों को 5 से 20 फीट बर्फ मिलेगी।

Read more

त्रियुंड जाने वाले पर्यटकों के लिए प्रशासन ने जारी किए नए निर्देश, दोपहर बाद जाने पर लगा प्रतिबंध

त्रियुंड क्षेत्र में अक्सर पर्यटकों के रास्ता भटक जाने, गिर जाने और लापता होने जाने की ख़बरें सामने आती रहती हैं। इसके चलते ही प्रशासन द्वारा यह निर्णय लिया गया है। गल्लू चैक पोस्ट से आगे पहाड़ी व जंगल का क्षेत्र है। यहां की भूगोलिक स्थिति काफी दुर्गम है। बारिश होने के बाद इस क्षेत्र में फिसलन रहती है और सर्दियों के मौसम में यहां बर्फबारी भी होती है। बर्फबारी के कारण पहाड़ो पर रहने वाले जंगली जानवर नीचे त्रियुंड के रास्ते में आ जाते हैं।

Read more

बर्फबारी के कारण पर्यटकों के लिए एक बार फिर से बंद हुआ रोहतांग दर्रा, गुलाबा बना स्नो प्वाइंट

बर्फबारी के चलते गुलाबा इन दिनों पर्यटकों के लिए स्नो प्वाइंट बना हुआ है। रविवार को 400 से अधिक पर्यटक वाहन गुलाबा पहुंचे। इससे यहां लंबे समय तक जाम लगा रहा। बता दे कि रविवार को भी रोहतांग दर्रे में हल्की बर्फबारी के बीच वाहनों की आवाजाही जारी रही। ख़राब मौसम के कारण एचआरटीसी ने केलंग कुल्लू पर बस सेवा को बंद कर दिया है। पैदल राहगीरों की मदद के लिए रोहतांग दर्रे में लाहुल स्पीति प्रशासन द्वारा रेस्क्यू पोस्ट स्थापित किया जाएगा। अब रोहतांग दर्रे पर वाहनों की आवाजाही फिर से कब शुरू होगी यह मौसम की परिस्थितियों पर निर्भर करेगा।

Read more

31 अक्‍टूबर से पर्यटकों के लिए बंद हो जाएगी फूलों की घाटी, इस साल रिकॉर्ड संख्या में पहुंचे पर्यटक

जानकारी के अनुसार इस वर्ष कुल 14965 पर्यटकों ने फूलों की घाटी की खूबसूरती का आनंद लिया, जिसमें 750 पर्यटक विदेशी थे। यह फूलों की घाटी में पहुंचने वाली सर्वाधिक पर्यटकों की संख्या हैं। इससे पहले 2017 में 13754 पर्यटक फूलों की घाटी पहुंचे थे। बता दे कि साल 2013 में उत्तराखंड में आई प्राकृतिक आपदा के कारण यहां आने वाले पर्यटकों की संख्या बहुत कम हो गई थी। लेकिन पर्यटक एक बार फिर से फूलों की घाटी का रुख करने लगे हैं। ज्यादा संख्या में पर्यटकों के आने से पार्क प्रशासन के राजस्व में वृद्धि हुई है, वहीं स्थानीय व्यापारियों को भी लाभ मिल रहा हैं। फूलों की घाटी दुनिया का इकलौता पर्यटन स्थल है, जहां 500 से अधिक प्रजाति के फूल खिलते हैं। इनमें कई प्रजाति दुर्लभ की श्रेणी में शामिल हैं।

Read more

मानव परिंदों से फिर गुलजार हुई बीलिंग घाटी, पहले दिन पैराग्लाइडिंग करने पहुंचे 100 से अधिक पायलट

प्रतियोगिता के पहले दिन पुरुषों की श्रेणी में न्यूजीलैंड के मैट्ट सीनियर पहले, न्यूजीलैंड के ही लुइस टोपर दूसरे और भारत के देवू चौधरी तीसरे स्थान पर रहे। महिला श्रेणी में एलीना पहले, अन्ना दूसरे व विरोनिका तीसरे स्थान पर रहीं। यह तीनों ही महिलाएं रशिया की नागरिक हैं। अगर भारतीयों की बात की जाएं तो देवू चौधरी पहले, विजय सेनी दूसरे, यशपाल तीसरे व प्रकाश चंद ठाकुर चौथे स्थान पर रहे।

Read more

बिलिंग घाटी में हर साल लगता है मानव पक्षियों का तांता

बिलिंग पैराग्लिडिंग के लिए टेकऑफ़ साइट है जबकी बीड लैंडिंग साइट है। सामूहिक रूप से इसे “बीड बिलिंग” कहा जाता है। बीड बिलिंग घाटी पैराग्लाइडिंग के लिए दुनिया भर में मशहूर है। यहां से भी अधिक देशों से पर्यटक पैराग्लाइडिंग करने के लिए पहुंचते हैं।

Read more

चंबा की आन और हिमाचल की शान, 7 दिन का अंतरराष्ट्रीय मिंजर मेला आज से हुआ शुरू

हिमाचल प्रदेश का सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय मिंजर मेला आज से शुरू हो रहा है। चंबा के चौगान में सात दिन चलने वाले इस महोत्सव में राज्य ही नहीं, देश-विदेश से तमाम जानी-मानी हस्तियां व पर्यटक शामिल होते हैं। यह एक तरह का विजयोत्सव है। वर्ष 935 ईसवी में जब चंबा के राजा कांगड़ा पर विजय प्राप्त कर वापस आए थे तो स्थानीय लोगों ने उन्हें गेहूं, मक्का और धान के मिंजर और ऋतुफल भेंट कर खुशियां मनाई थीं।

Read more

कश्मीर घाटी को देश से जोड़ने वाली जवाहर सुरंग मरम्मत के बाद फिर आवाजाही के लिए खुली

जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर बनी जवाहर सुरंग की मरम्मत कर आवाजाही के लिए खोल दिया है। सोमवार को इस सुरंग की एक ट्यूब में दरार पड़ गई थी और किसी अनहोनी से बचने के लिए सुरंग के दरार वाले उत्तरी हिस्से को बंद कर दिया गया था। सुरंग बंद होने से बड़ी संख्या में वाहन बनिहाल और काजीगुंड सेक्टर में फंस गए थे। यह इकलौता रास्ता है जो कश्मीर घाटी को देश के दूसरे हिस्सों से जोड़ता है।

Read more

भारी बारिश से घुमक्कड़ों के लिए उत्तराखंड में बढ़ा रोमांच, सड़कों पर निकलते वक्त बरतें सावधानी

घूमने-फिरने के इस सीजन में पहाड़ी इलाकों में जहां बारिश और बाढ़ परेशानी बन कर खड़े हो रहे हैं वहीं रोमांच की तलाश में निकले घुमक्कड़ों के लिए इससे बेहतर मौका और कुछ नहीं हो सकता। बादलों का फटना, बाढ़ से जूझना और थोड़ी देर में सूखा और थोड़ी देर में झमाझम बारिश जैसी मौसमी घटनाओं का लुत्फ उठाना है तो इस समय सावधानी बरतते हुए उत्तराखंड का रुख किया जा सकता है।

Read more