समुद्रतल से 3307 मीटर की ऊंचाई पर है उत्तरकाशी की यह खूबसूरत झील

डोडिताल झील को धार्मिक मान्यता के आधार पर गणेश जन्मभूमि के रूप में विशेष महत्व दिया जाता है। इसी विश्वास के प्रतीक के रूप में यहां एक मंदिर भी बना हुआ है। प्रत्येक वर्ष जून माह में पावन तीर्थ डोडिताल में गणेश अन्नपूर्णा महोत्सव बड़ी डूम-धाम से मनाया जाता है।

Read more

देहरादून-हरिद्वार-ऋषिकेश में जाम से राहत दिलाएगा ‘रैपिड ट्रांजिट सिस्टम’

देहरादून-हरिद्वार-ऋषिकेश का रूट साल के बारह महीने व्यस्त रहता है। खासतौर से वेकेशन के समय यहां पर्यटकों को कई घंटे सिर्फ जाम में ही बिताने पड़ते हैं। इसे देखते हुए उत्तराखंड में परिवहन सेवाओं के विस्तार की कवायद जारी की गई है।

Read more

15000 बोतलों से मसूरी में बनी “उम्मीद की दीवार”

इस अभियान को चलाने वाली टीम ने मसूरी में गंदगी न फैलने के लिए कैम्पटी फॉल के पास बंगलों की कांडी गांव में 15000 प्लास्टिक की बोतलों से एक वॉल ऑफ होप बनाई है।

Read more

अपनी अद्भुत खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध है खुर्पाताल झील, बदलती है अपना रंग

पहाड़ियों और पेड़ो से घिरी यह झील बहुत ही मनमोहक नजर आती है। इसकी सुन्दरता देखते ही बनती है। खुर्पाताल झील से थोड़ी दूर ऊपर मनसा देवी मंदिर हैं।

Read more

मसूरी आने वाले पर्यटकों की पहली पसंद है गन हिल्स

गन हिल पर पहुंचकर पर्यटक हिमालय पर्वत श्रृंखला अर्थात बंदरपंच, श्रीकांत, पिछवाड़ा और गंगोत्री के सुंदर नजारों का दीदार कर सकते हैं। यहां से मसूरी और दून-घाटी का विहंगम दृश्य भी नजर आता है।

Read more

अनछुई प्राकृतिक खूबसूरती का धनी है रानीखेत के नजदीक हिल स्टेशन चौखुटिया

अगर आप प्रकृति की खूबसूरती का आनंद उठाने के लिए एक आदर्श पर्यटन स्थल की सैर करना चाहते है तो आप चौखुटिया आकर इस क्षेत्र की प्राकर्तिक सौन्दर्यता का आनंद ले सकते है।

Read more

चकराता में दिखाई देता है खूबसूरत नजारा, मॉनसून में करें घूमने का प्लान

चकराता, देहरादून जिले में एक छावनी शहर है​ जो कि टोंस और यमुना नदियों के बीच है। चकराता को कर्नल ह्यूम और उनके सहयोगी अधिकारियों ने बसाया था।

Read more

उर्गम घाटी से दिखाई देता है हिमालय का खूबसूरत नजारा, स्थित है यहां पंचकेदार

बद्रीनाथ राजमार्ग पर हेलंग से कल्प गंगा के उदगम तक फैली उर्गम घाटी उत्तराखण्ड की बेहद खूबसूरत घाटियो में से एक है। समुद्र तल से इसकी ऊंचाई लगभग 2080 मीटर है।

Read more

जागेश्वर धाम को पांचवे धाम के रूप में विकसित करेगी उत्तराखंड सरकार

देवभूमि उत्तराखंड के अल्मोड़ा से लगभग 35 किलोमीटर दूर भगवान शिव का पहला ज्योतिर्लिंग जागेश्वर धाम है। भगवान शिव को समर्पित यह एक विशाल और सुंदर मंदिर है। उत्तराखंड सरकार जागेश्वर धाम को पांचवे धाम के रूप में विकसित करने की योजना बना रही है।

Read more

महाप्रलय के दौरान केदारनाथ धाम में प्रकट हुई थी दिव्य भीम शिला

जब मन्दाकिनी नदी चारों ओर तबाही मचा रही थी उसी दौरान केदारनाथ धाम मंदिर के ठीक पीछे एक विशाल शिला प्रकट हुई जिन्होंने मंदिर को मन्दाकिनी की चोटों से बचा लिया।

Read more
error: Content is protected !!

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/himalayandiary/public_html/wp-includes/functions.php on line 4469