Sacred Religious Places of Himalayan Devbhumi of Uttarakhand, Himachal Pradesh, Jammu Kashmir and Ladakh States of India.

रुद्रप्रयाग में है सिद्ध पीठ श्री कालीमठ मंदिर, यहां आज भी महसूस होता है मां काली के होने का एहसास

देवभूमि उत्तराखंड का रुद्रप्रयाग जिला कई ऐतिहासिक धार्मिक स्थलों के लिए जाना जाता है। उन्हीं धार्मिक स्थलों में से एक प्रसिद्ध शक्ति सिद्ध पीठ श्री कालीमठ मंदिर (Kalimath Temple Uttarakhand) है। देवी काली को समर्पित…

0 Comments

चंपावत में है प्रसिद्द क्रांतेश्वर महादेव मंदिर, यहां भगवान विष्णु ने लिया था कूर्मावतार

उत्तराखंड के चंपावत शहर से लगभग 6 किलोमीटर की दूरी पर एक ऊंची पहाड़ी चोटी पर भगवान शिव को समर्पित प्रसिद्द और पवित्र धार्मिक स्थल क्रांतेश्वर महादेव मंदिर (Kranteshwar Mahadev Temple) है। समुद्र तल से…

0 Comments

हल्द्वानी के प्रसिद्ध शीतला देवी मंदिर में है आस्था और प्रकृति का अद्भुत संगम

देवों की भूमि उत्तराखंड में कई ऐतिहासिक और लोकप्रिय धार्मिक स्थल स्थित है। इन धार्मिक स्थलों में लोगों की गहरी आस्था है। उत्तराखंड का ऐसा ही प्रसिद्ध ऐतिहासिक धार्मिक स्थल मां शीतला देवी मंदिर (Sheetla…

0 Comments

अल्मोड़ा में है अनोखा मां विंध्यवासिनी बानड़ी देवी मंदिर, मुराद पूरी होने पर जलाते हैं अंखड दिए

उत्तराखंड में अल्मोड़ा से 34 किलोमीटर की दूरी पर लमगड़ा में मां विंध्यवासिनी बानड़ी देवी का ऐसा अनोखा मंदिर (Vindhyavasini Banri Devi Temple) है, जहां मुराद पूरी होने पर भक्तों को अखंड दिए नौ दिनों…

0 Comments

रामनगर में स्थित है माता पार्वती को समर्पित प्रसिद्द गिरिजा देवी मंदिर

उत्तराखंड के सुंदरखाल गांव में स्थित गर्जिया देवी मंदिर को गिरिजा देवी का मंदिर (Girija Devi Temple) भी कहा जाता है। यह माता पार्वती के प्रमुख मंदिरों में से एक है। यह बहुत ही पवित्र…

0 Comments

ब्यानधुरा मंदिर में संतानहीन दंपतियों की पूरी होती है मनोकामना, मुराद पूरी होने पर अस्त्र-शस्त्र किए जाते हैं भेंट

उत्तराखंड में चंपावत जिले की सीमा में रोड से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर पहाड़ी की चोटी पर ब्यानधुरा मंदिर (Byandhura Temple Champawat) है। इस मंदिर में विराजमान देवता को ऐड़ी देवता कहा जाता…

0 Comments

सदियों पुरानी आस्था का प्रतीक है हिमाचल के जोगिंदरनगर की मच्छयाल झील

हिमाचल प्रदेश के जोगिंदरनगर से लगभग आठ किलोमीटर दूर जोगिंद्रनगर-सरकाघाट-घुमारवीं सड़क पर एक हिंदू तीर्थस्थल मच्छयाल स्थित है। सदियों पुरानी आस्था का प्रतीक यह तीर्थस्थल मछलियों के देवता मछिन्द्रनाथ को समर्पित है। यहां एक पवित्र…

0 Comments